काव्य के साथ कवियों का सम्मान भी किया

काव्य के साथ कवियों का सम्मान भी किया

होशंगाबाद। नर्मदा आह्वान सेवा समिति (Narmada awah seva samiti) को कवि सम्मेलन (Kavi sammelan) और सम्मान समारोह होटल वाटिका पैलेस में किया। इस अवसर पर कवि जगदीश प्रसाद सारस्वत, कौशल सक्सेना, श्याम शर्मा, स्मिता रिछारिया बतौर अतिथि मौजूद थे। सम्मेलन में देश के विभिन्न अंचलों से आंमत्रित कवियों ने ओज, हास्य, व्यंग्य की कविता प्रस्तुत कर खूब वाहवाही लूटी। नगर की रक्षा पुरोहित की सुमधुर कोकिल कंठी स्वर के साथ सरस्वती वंदना से कवि सम्मेलन शुभारंभ हुआ।
अतिथिओं का स्वागत कैप्टन करैया, हंस राय, प्रमोद रघुवंशी, जयकृष्ण चांडक, अमित बिल्लोरे ने स्वागत भाषण किशोर करैया ने दिया। प्रथम सत्र में प्रदेश से जगदीश सारस्वत दिनेश याज्ञनिक, मुकेश शांडिल्य, डॉ. सतीश समी, रतन सिंह कीर, प्रमिला किरण, अरुण गढ़वाल, हरीश पांडे, प्रमोद रघुवंशी सहित अनेक कवियों ने प्रस्तुति दी। द्वितीय सत्र में मुख्यातिथि पं. भवानी शंकर शर्मा ने निरंतर साहित्यिक आयोजन के लिये कैप्टन करैया को बधाई देते हुए कहा कि कवि समागम आयोजन बड़ा महत्वपूर्ण एवं सरस कार्यक्रम है। साहित्यकारों का यही दायित्व है कि समाज की विपदाओं और विषमता के प्रति अपनी लेखनी से प्रहार करते हुए समाज में समरसता, प्रेम ओर शांति का संदेश प्रदान करते रहें। कवि राजेंद्र सहारिया ने कहा कि इस सांघातिक और संकटग्रस्त समय में ऐसे आयोजन समाज की बेहतरी के लिए संजीवनी का काम करते हैं। रामकिशोर नाविक ने कहा कि श्री करैया विगत वर्षों से नर्मदा आह्वान समिति के माध्यम से अंचल में जनचेतना का संचार कर रहे हंै। कौशल सक्सेना ने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि समिति मप्र में साहित्य क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्यकर रही है। मप्र के कई शहरों में निशुल्क कवि समागम करके गौरव हासिल किया है। इस अवसर नर्मदा आह्वान सेवा समिति की स्मारिका का विमोचन किया। आभार प्रर्दशन समिति के हंस राय ने किया।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: