विद्यार्थियों को विधिक जानकारी होना वर्तमान की आवश्यकता : एडीजे  

विद्यार्थियों को विधिक जानकारी होना वर्तमान की आवश्यकता : एडीजे  

इटारसी। राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण (National Legal Services Authority) के निर्देशानुसार विधिक पखवाड़ा के अंतर्गत विधिक सेवा समिति ने शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय पथरोटा (Government Higher Secondary School Pathrota) में विधिक साक्षरता शिविर आयोजित किया।

शिविर में तहसील विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष प्रथम अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश हर्ष भदौरिया (Additional Sessions Judge Harsh Bhadauria) ने विद्यार्थियों को कानून की जानकारी देते हुए बताया कि विद्यार्थियों को पाठशाला में अपने जीवन में हमेशा सकारात्मक सोच रखें और आगे बढऩे की सतत कोशिश करते रहें के संस्कार दिए जाते हैं।

विद्यार्थी के मन में हमेशा क्यों वाली बात उठना चाहिए, जिससे वह अपनी शंका का समाधान कर सकें और इस देश का एक अच्छा अनुशासित नागरिक बनकर देश सेवा कर सकें।

विद्यार्थियों को उनके जीवन में अनेक पहलुओं से होकर गुजरना पड़ता है। शिक्षा अर्जित करने के पश्चात जब कॅरियर की ओर झुकाव होता है, तब विद्यार्थी अपना लक्ष्य निर्धारित करते हैं कि उन्हें इंजीनियर, डॉक्टर, साइंटिस्ट, जज बनना है, अथवा फौज में जाना है, अथवा राजनीति के माध्यम से देश की सेवा करनी है।

देश के प्रत्येक बालक बालिका को अपने मन में यह दृढ़ निश्चय करना चाहिए कि हमें अपने आने वाले समय में देश सेवा और जन सेवा का संकल्प लेकर आगे बढऩा है। किसी भी प्रकार की नौकरी में धन लाभ तो लिया जा सकता है, परंतु धन कमाने के अलावा यदि उसमें मानव सेवा और देश सेवा सम्मिलित हो जाए तो वह नागरिक कर्तव्यों की ओर अग्रसर होता है। देश में एक अनुशासित सफल नागरिक के रूप में कारगर साबित होता है।

आप विद्यार्थी चाहे फौज में जाएं चाहे किसी भी अन्य कारपोरेट सेक्टर में सेवाएं दें लेकिन अपने मन में देश के प्रति सम्मान की भावना हमेशा रखना चाहिए। न्यायाधीश ने विद्यार्थियों को क्लेम केस एक्सीडेंट केस एवं ट्रैफिक के नियमों के बारे में विस्तार से जानकारी दी और उनके प्रश्नों का समाधान भी किया।

शिविर में संबोधित करते हुए इटारसी न्यायालय के अपर लोक अभियोजक राजीव शुक्ला (Additional Public Prosecutor Rajeev Shukla) ने बच्चों को पास्को एक्ट के बारे में विस्तार से जानकारी दी और बच्चियों को गुड टच तथा बैड टच के बारे में समझाया।

श्री शुक्ला ने यह भी कहा कि आपको किसी प्रकार की कोई भी परेशानी किसी व्यक्ति से होती है तो तत्काल उसका प्रतिवाद करें और प्रतिवाद करने से भी यदि काम नहीं बनता है तो उसकी शिकायत अपने विद्यालय के प्राचार्य, माता पिता से करें और माता पिता के साथ जाकर थाने में उसकी शिकायत दर्ज कराएं जिससे अपराध करने वाले के हौसले पस्त होंगे तथा समाज में शांति व्यवस्था कायम रहेगी।

विधिक सेवा समिति के सदस्य जिनेंद्र जैन ने विद्यार्थियों को ट्रैफिक नियम के बारे में जानकारी दी और कहा कि वगैर लाइसेंस के या वगैर हेलमेट के हमें सड़क पर टू व्हीलर नहीं चलाना चाहिए।

इस अवसर पर शिक्षक प्रभाकर राव ने संचालन किया तथा शाला के प्राचार्य सुनील जैन ने आभार व्यक्त किया।

कार्यक्रम में विद्यालय के शिक्षक एवं शिक्षिकाओं के अलावा विधिक सेवा समिति के सदस्य अमन बर्मन, योगेश यादव एवं पुलिसकर्मी मौजूद थे। विद्यार्थियों ने न्यायाधीश की बातों को आत्मसात करते हुए उन्हें वचन दिया कि हम भविष्य में एक अच्छा नागरिक बनने का प्रयास करेंगे और विधि कानून की हमेशा जानकारी रखते हुए सभी कार्य कानून सम्मत करेंगे।

TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!