कविता: क्या कहें कि कैसी अदाएं हैं उनकी

कविता: क्या कहें कि कैसी अदाएं हैं उनकी

क्या कहें कि कैसी अदाएं हैं उनकी,
हम तो बस कश्मकश में ही पड़ते हैं ।

रुख से वो पर्दा हटाते नहीं हैं और,
हमारा दीदार न हो तो बैचैन हो उठते हैं ।

हमारा हाल – ए – दिल तो वो सुनते नहीं ,
गर हम तवज्जो न दें तो खफा हो सकते हैं ।

इश्क की गली में संग हमारे कदम रखते नहीं ,
हम किसी और जानिब जाएं तो आंखें नम करते हैं ।

इकरार के लफ्ज़ वो हमसे कहते नहीं हैं और ,
हमें इंकार का ख्याल भी आए तो आहें भरते हैं ।

अदिति टंडन
आगरा .

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!