गंभीर बीमारियो के उपचार के लिए ऐसे शिविर महत्वपूर्ण होते हैं : कलेक्टर

गंभीर बीमारियो के उपचार के लिए ऐसे शिविर महत्वपूर्ण होते हैं : कलेक्टर

– एनीमिया से पीडि़त बच्चों के लिए एचएलए विशेष परीक्षण शिविर

नर्मदापुरम। सिकलसेल, थेलेसिमिया और एनीमिया गंभीर बीमारियां हैं उनके उपचार के लिए ऐसे शिविर महत्वपूर्ण होते है। यह बात कलेक्टर नीरज कुमार सिंह (Collector Neeraj Kumar Singh) ने सिकलसेल, थेलेसिमिया और एनीमिया से संबंधित बीमार बच्चों के लिए आयोजित शिविर में कही।

उन्होंने कहा कि शिविर में आए हुए विशेषज्ञ डाक्टरों के मार्गदर्शन और उपचार से बच्चों को विशेष लाभ मिलेगा। इन बीमारियों में काफी खर्च होता है। हमारा प्रयास रहेगा कि बच्चों की मदद के लिए आगे के उपचार की व्यवस्था भी की जाए।

शिविर के आयोजन में शहर के समाजसेवियों और रेडक्रास सोयायटी द्वारा शुक्रवार को जिला अस्पताल परिसर में सिकलसेल, थेलेसिमिया और एनीमिया से पीडि़त बच्चों के लिए फौजदार भवन में विशेष शिविर आयोजित हुआ। शिविर में विभिन्न स्थानों से आए 170 पीडि़त बच्चों का परीक्षण किया गया।

शिविर में न्यूयार्क यूनिवर्सटी कोलंबिया से आए प्रवासी भारतीय डॉ प्रकाश सतवानी, डॉ धर्मांशु चौबे, नई दिल्ली से डॉ मदन चावला, इंदौर से डॉ सतबानी द्वारा बोर्नमेरो ट्रांसप्लांट के बारे में सभी मरीजों को जानकारी दी गई। आयोजकों ने बताया कि इस परीक्षण प्रक्रिया में लगभग 12000 रुपये प्रति मरीज व्यय होता है परंतु आज यह निश्शुल्क किया गया। इसमें मरीज के माता, पिता, भाई का भी टेस्ट किया गया।  

कार्यक्रम में कलेक्टर नीरज सिंह (Collector Neeraj Singh) के साथ ही सीएमएचओ डॉ दिनेश दहलवार, सिविल सर्जन डॉ सुधीर विजयवर्गीय, वरिष्ठ सर्जन, डॉ रविंद्र गंगराड़े, शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ आनंद पाठक, पूर्व सिविल सर्जन डॉ रविकांत शर्मा, जिला रेडक्रास प्रबंध समिति से चेयरमैन श्री चंद्र गोपाल मलैया, डॉ उमेश सेठा, समाजसेवी डीएस दांगी, मुकेश श्रीवास्तव, नीरजा फौजदार, उदित द्विवेदी, हेमंत चौधरी, देवदत्त गौर, गौरव सेठ, प्रदीप मिश्रा, अनिल अग्रवाल, डॉ. बसंत जोशी, जिला अस्पताल का नर्सिंग स्टाफ मौजूद रहा।

संचालन डॉ. आरके माहेश्वरी ने तथा आभार प्रदर्शन सिविल सर्जन डा विजयवर्गीय ने किया।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )
error: Content is protected !!