BREAK NEWS

गीतों पर मिले सुर तो बन गया संगीत का माहौल

गीतों पर मिले सुर तो बन गया संगीत का माहौल

– पार्श्व गायक मुकेश की पुण्यतिथि पर यादव भवन में संगीतमयी शाम
इटारसी। पार्श्व गायक मुकेशचंद्र माथुर के पुण्यस्मृति दिवस पर ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा’ ग्रुप ने यादव भवन में उनको याद किया और उनके गाये गीतों के माध्यम से उनके प्रति श्रद्धासुमन अर्पित किये। कार्यक्रम में बतौर अतिथि श्रीकृष्ण यादव कल्याण समिति के अध्यक्ष आरके यादव, संतोष सरवरिया और यादव समाज के वरिष्ठ सदस्य फूलचंद यादव, एमजीएम कालेज के सेवानिवृत्त प्राचार्य व्हीके सीरिया मौजूद थे। अतिथियों ने कार्यक्रम की सराहना करते हुए कहा कि संगीत ऐसी विधा है, जो मानव जीवन की सभी चिंताओं का सबसे माकूल निराकरण है।
अतिथियों ने संगीत की देवी सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलन और माल्यार्पण करके की। गीतों का सिलसिला शुरु हुआ विनोद पांडेय द्वारा गाये चांद सी मेहबूबा गीत से।

बीबीआर गांधी ने तेरी निगाहों पर मर-मर गये हम, रामाशीष पांडेय ने चांद आहें भरेगा, किशोर सीरिया ने सुहाना सफर, कुलभूषण मिश्रा ने जाने कहां गये वो दिन, अखिल दुबे ने किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार, कमलेश मनवारे ने जिन्हें हम भूलना चाहें, अनिल शुक्ला ने हमने तुमको प्यार किया है, मुकेश यादव ने ये मेरा दीवानापन है, अनुराग दीवान दोस्त-दोस्त न रहा, चंद्रेश मालवीय राम करे ऐसा हो जाए, पंकज गुप्ता सुहानी चांदनी रातें, मनोज तिवारी मुझे तुमसे कुछ भी न चाहिए, रोहित नागे ने मैं ढूंढता हूं जिनको गीत के अलावा विमल सीरिया ने भी गीत गाया।

दो युगल गीत भी हुए

कार्यक्रम में दो युगल गीत भी हुए। नवोदित गायिका वंदना चौरे ने किशोर सीरिया के साथ इक प्यार का नगमा है और विनोद पांडेय के साथ फूल तुम्हें भेजा है खत में गीत प्रस्तुत किया।

TAGS
Share This

AUTHORRohit

I am a Journalist who is working in Narmadanchal.com.

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )
error: Content is protected !!