पत्रकार शब्द माखन दादा की देन : शायर ख्याल

पत्रकार शब्द माखन दादा की देन : शायर ख्याल

माखन लाल चतुर्वेदी की जयंती पर हुई काव्य गोष्ठी
सोहागपुर। पत्रकार शब्द माखन दादा की देन है। उसके पहले पत्रकारों को खबर नवीस एवं जर्नलिस्ट कहा जाता था। उक्त बात दिल्ली से आए साहित्यकार शायर चंद्रभान ख्याल ने राष्ट्रकवि माखनलाल ल चतुर्वेदी की जयंती के अवसर पर आयोजित काव्य गोष्ठी के मुख्य अतिथि के रूप में कहीं ।

कार्यक्रम की अध्यक्षता साहित्य परिषद अध्यक्ष पंडित राजेन्द्र सहरिया ने की। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रुप में प्राचार्य राहुल देव ठाकरे, पूर्व नप अध्यक्ष अभिलाष चंदेल, आकाश पटेल, राघवेंद्र रघुवंशी एवं विजय छाबडिया मौजूद थे। यह आयोजन सनशाइन होटल सारंगपुर में विवेकानंद अकादमी एवं साहित्य परिषद के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित किया गया था। कार्यक्रम में पहुंचे अतिथियों एवं कवि गणों का होटल मालिक अनिल गैहरैया ने पुष्प मालाओं से अभिनंदन किया।

श्रोताओं ने लिया गीत गजलों का आनंद

राष्ट्रकवि माखनलाल चतुर्वेदी की जयंती पर आयोजित काव्य गोष्ठी में स्थानीय कवियों ने अपनी रचनाएं पढ़ी। कवियों ने मंच से कहा

जुस्तजू के पांव अब आराम सा पाने लगे,
अब हमारे पास भी कुछ शांति आने लगे।
* गजलकार चन्द्रभान ख्याल

फागुन आओ ठंड गई ,
अब कछु कछु खरियाने दिन
ठीठी करत अंगीठी बारे
अब, हो गए पुराने दिन।
* बुंदेली कवि राजेन्द्र सहारिया

दिये जब जल रहे होंगे
अंधेरे डर रहे होंगे।
गगन की आँख से आंसू
खुशी से झर रहे होंगे।
*गीतकार शरद व्यास

कोई तो बीन देदो, मुझको यकीन देदो
सांपों को पालने को, एक आस्तीन देदो।
* कवि राजेश शुक्ला

दर्द पराए अपने दिल में पिरोता रहा,
यूं रफ्ता-रफ्ता में आदमी होता रहा।
*कवि अमित बिल्लोरे अमृत

ये झूठा बादशाहों का यहां एलान होता है,
कि उसकी है नजर वही सुल्तान होता है।
* शायर जलज शर्मा

सच बोलूँ तो बबाल, ना बोलूँ तो मलाल होता है,
जब भी खड़ा होता हूँ सच के साथ, उल्टा मुझसे ही सवाल होता है,,,,।
* कवि प्रबुद्ध दुबे

इसी के साथ का गोष्टी में कवि मथुरा प्रसाद जोशी जीवन दुबे, सौरव सोनी, श्वेतल दुबे, शैलेंद्र शर्मा, अभिषेक सिंह चौहान, संजय दीक्षित आदि ने भी कविता पाठ किया। काव्य गोष्ठी के मंच से जीवन दुबे एवं श्वेतल दुबे ने बाबई का नाम माखन नगर किए जाने को लेकर शासन से जल्द कारवाही करने की मांग रखी। इस कार्यक्रम में प्रदीप दुबे, कमलेश साहू ,घनश्याम यादव, डॉक्टर पंकज साहू, शरद चौरासिया, पी के असाठी , सुरेश नरवरिया, ऋषभ व्यास,आनंद खंडेलवाल धनराज तिवारी, गणेश अहिरवार नितेश जैन सुरेन्द्र रघुवंशी प्रशांत मालवीय आदि मौजूद थे।

CATEGORIES

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW