ऐसा होगा 10 साल के बच्चों के लिए डाइट प्लान

ऐसा होगा 10 साल के बच्चों के लिए डाइट प्लान

होशंगाबाद। 10 साल के बढ़ते हुए बच्चों को पौष्टिक आहार की सबसे ज्यादा जरूरत होती है। अक्सर देखा गया है। कि इस उम्र के बच्चे खाने.पीने में बहुत आनाकानी करते हैं। उन्हें ऐसा खाना पसंद होता है, जिसमें पोषक तत्व नहीं होते और वो जो खाते हैं, वह उनके लिए सेहतमंद नहीं होता। ऐसे में पैरेंट्स के लिए जितना मुश्किल बच्चों को खाना खिलाना होता हैए उससे ज्यादा चुनौतीपूर्ण होता है उनके लिए संतुलित पौष्टिक आहार को चुनना। अगर आपका बच्चा भी खाना खाने में परेशान करता हैए तो आपको अपने बच्चे की डाइट का खास ख्याल रखने की जरूरत है। इस आर्टिकल में हम आपके लिए लाएं हैं 10 साल के बच्चों के लिए डाइट प्लान।

10 साल के बच्चों के लिए आवश्यक खाद्य पदार्थ
10 साल के बच्चे के लिए पोषक तत्वों से भरपूर आहार लेना बहुत जरूरी है। डाइट विशेषज्ञ कहते हैंए कि जब बच्चा 10 साल का हो जाएए तो उसे दिन में चार बार अच्छे से भोजन करना चाहिए। पैरेंट्स को उनके आहार में आवश्यक रूप से फ्रेश फ्रूट जूसए प्रोबायोटिक दहीए सब्जियों के रस और प्यूरीज शामिल करना चाहिए। इन्हें पराठे या चपाती के साथ सर्व करें। स्प्राउट्स और बीन्स रोजाना ब्रेकफास्ट में दे सकते हैं। नीचे हम आपको बता रहे हैंए 10 साल के बच्चे को कौन.कौन से खाद्य पदार्थ देने चाहिए।

अनाज
अनाज स्वस्थ आहार का अनिवार्य हिस्सा है, जो बच्चे के सामान्य विकास के लिए पोषक तत्व और ऊर्जा प्रदान करता है। उनके आहार में अनाज के रूप में हाई फाइबर ब्रेड अनाज, चावल, पास्ता, नूडल्स और जई शामिल करना चाहिए। जबकि, ज्यादा चीनी और नमक वाले अनाज से दूरी बनानी चाहिए। आपको बता दें, कि ब्रेड और सीरीयल्स फाइबर, कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन के अच्छे स्त्रोत हैं, इसलिए बच्चों के डाइट प्लान में इन्हें जरूर शामिल करना चाहिए।

फल और सब्जियां
फल और सब्जियां कलर पिगमेंट, पानी, विटामिन और खनिज से भरपूर होते हैं साथ ही इनमें फाइबर और कैलोरी की मात्रा भी अच्छी होती है। हर बच्चे को रोजाना पांच भाग फल और सब्जियों के जरूर देना चाहिए। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के दौरान हर मील में एक सब्जी या फल तो शामिल होना ही चाहिए। बच्चे को हर दिन पांच सर्विंग फल और सब्जियों की सर्व करें।

फैट और ऑयल
फैट और ऑयल आपके बच्चे के आहार का एक अनिवार्य हिस्सा है। क्योंकि ये आपके बच्चे के मास्तिष्क विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वहीं वसा का उपयोग शरीर में ईंधन के रूप में किया जाता है और वसा में घुलनशील विटामिन एए डीए ई और के को अवशोषित करने में मदद करता है।

लो शुगर
बच्चों को कम चीनी वाले पेय पदार्थ दें। बच्चे को ज्यादा से ज्यादा रियल फ्रूट जूस पीने के लिए कहें। लेकिन 12 औंस से ज्यादा नहीं। जर्नल ऑफ द अमेरिकन कॉलेज ऑफ न्यूट्रिशन में बताया गया हैए कि मीठे पेय और कैंडी ऐसे खाद्य पदार्थ हैंए जो 10 साल के बच्चे के आहार में सबसे ज्यादा शामिल होते हैं। फल की स्मूदी, स्ट्रिंग चीज, होल ग्रेन से बने सीरीयल बार हेल्दी ब्रेकफास्ट के अच्छे ऑप्शन हैं।

दूध व डेयरी उत्पाद
दूध और डेयरी के उप्ताद विटामिन ए, डी, बी, बी2, बी12 और कैल्शियम के अच्छे स्त्रोत हैं। यह बच्चों और किशोरों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैं। यदि हर दिन कैल्शियम की जरूरत को पूरा किया जाएए तो बचपन और किशोर अवस्था में अच्छा बोन बैलेंस प्राप्त किया जा सकता है।

मीट व बीन्स
मांस, पोल्ट्री, मछली, बीन्स, मटर, अंडे, नट और बीज कई पोषक तत्वों की आपूर्ति करते हैं और ये स्वस्थ भोजन का महत्वपूर्ण हिस्सा भी है। ये सभी खाद्य पदार्थ प्रोटीन के समृद्ध स्त्रोत हैं। बच्चों के शरीर में विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए प्रोटीन की आवश्यकता होती हैए इसलिए इसे बच्चों के आहार में शामिल जरूर करना चाहिए। मांस भी विटामिन बी 12 और आयरन का अच्छा स्त्रोत है। आयरन से भरपूर आहार का सेवन करने से बच्चों में एनीमिया को रोकने में मदद मिलती है। यह बच्चों में पाई जाने वाली सामान्य स्थिति है। अगर आप पूरी तरह शाकाहारी हैंए तो मांस की जगह सोया, सेम, अंड, दूध, पनीर, दही, मशरूम, नट और बीज बच्चे को दे सकते हैं।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: