इंदौर के 5 खूबसूरत पर्यटन स्‍थल
इंदौर के 05 सबसे खूबसूरत स्‍थान, रालामंडल वन्‍य अभयारण्य पर्यटन स्‍थल, अटल बिहारी वाजपेयी पार्क (पिपिलियापाला) पर्यटन स्‍थल, गुलावट लोटस वैली इंदौर पर्यटन स्‍थल, शीतला माता फॉल पर्यटन स्‍थल, जानापाव कुटी पर्यटन स्‍थल

इंदौर के 5 खूबसूरत पर्यटन स्‍थल

इंदौर के 05 सबसे खूबसूरत स्‍थान, रालामंडल वन्‍य अभयारण्य पर्यटन स्‍थल, अटल बिहारी वाजपेयी पार्क (पिपिलियापाला) पर्यटन स्‍थल, गुलावट लोटस वैली इंदौर पर्यटन स्‍थल, शीतला माता फॉल पर्यटन स्‍थल, जानापाव कुटी पर्यटन स्‍थल

रालामंडल वन्‍य अभयारण्य इंदौर (Ralamandal Wildlife Sanctuary Indore)

इंदौर

रालामंडल वन्‍य अभयारण्‍य इंदौर शहर से लगभग 12 किलोमीटर की दूरी पर तिल्लौर मार्ग पर स्थित है। जिसका क्षेत्रफल 262 वर्ग मीटर है। वर्ष 1989 में इस पहाड़ी को अभयारण्‍य घोषित किया गया था यह वही अभयारण्‍य हैं जो होलकर महाराज के समय प्रसिद्ध स्थल था। वर्ष 1998 अक्टूबर माह में इस अभ्यारण में शाकाहारी वन्य प्राणियों को अन्‍य वन्‍य क्षेत्र से लाकर छोड़ा गया। इस अभ्यारण में 191 विभिन्न वनस्पतिक प्रजातियां मौजूद हैं और लगभग 62 विभिन्न प्रकार के पक्षी भी अपने मौसम में यहां आवागमन करते हैं।

इस अभयारण्य में प्रवेशद्वार से 300 मीटर की दूरी पर विश्राम हेतु दो पगोड़ा बनाए गए हैं। रालामंडल वन्यजीव अभयारण्य घूमने के लिए बहुत ही सुन्‍दर जगह हैं यहां रालामंडल वन्यजीव अभ्यारण में जंगल का परिदृश्य देखने के लिए मिलता हैं। साथ ही हरे भरे पेड़, ऊंची पहाड़ी और प्राचीन इमारत देखने के लिए मिलती है। यहां पर बहुत सारे जंगली जानवर भी हैं। यहां पर ट्रैकिंग के लिए बहुत अच्छा ट्रेक बनाया गया है, जहां से आप ट्रैकिंग करके पहाड़ी के सबसे ऊपरी सिरे पर पहुंचते हैं।

रालामंडल अभ्यारण में शिकारगाह तक पैदल चढ़ाई चलना पडता हैं। शिकारगाह से इंदौर शहर का विहंगम दृश्य, जल प्रदर्शनी केंद्र एवं प्राकृतिक वातावरण में चीतल, नीलगाय, आदि वन्य प्राणियों को देखना देखने को मिलता हैं।

इस अभयारण्‍य  में घूमने का 60 रुपये प्रति पर्यटक शुल्‍क लगता हैं और यह सुबह 9 बजे से शाम के 6:30 बजे तक खुली रहता हैं।

कैसे पहुंचें: इंदौर एयरपोर्ट से रालामंडल अभयारण्‍य की दूरी करीब 20.5 किलोमीटर है। पर्यटक निजी टैक्सी कर यहां आसानी से पहुंच सकते हैं। वहीं सड़क मार्ग से अभयारण्‍य की दूरी 13.4 किलोमीटर हैं ऐसे में पर्यटक निजी वाहन कर NH 47 मार्ग से 32 मिनट में यहां पर पहुंच सकते हैं।

अटल बिहारी वाजपेयी पार्क (पिपिलियापाला) (Atal Bihari Vajpayee Park (Pipiliapala)

इंदौर

इंदौर का अटल बिहारी वाजपेयी पार्क, जिसे पिपिलियापाला के नाम से भी जाना जाता हैं यह पार्क लगभग 120 एकड़ क्षेत्र में बनाया गया हैं, जिसमें से 42 एकड़ क्षेत्र पर जमीन है और 80 एकड़ क्षेत्र में पानी हैं इस खूबसूरत पार्क का निर्माण इंदौर डेवलपमेंट अथॉरिटी द्वारा किया गया है। पिपलियापाला में स्थित नहर और इसके आसपास मौजूद हरियाली पार्क को और भी खूबसूरत दृश्‍य बना देती है पिकनिक मनाने के लिए यह पार्क बहुत ही अच्‍छी जगह हैंं।

यहां जाकर आप आकर बोटिंग तो कर ही सकते हैं, साथ ही म्यूजिकल फाउंटेन, जंपिंक जेट फाउंटे, कलाकारों के गांव, नेकलेस गार्डन, फ्रेंच गार्डन, मेज और लेबिरिनिथ, बायो डायवर्सिटी गार्डन, मिस्ट फाउंटेन और लेक-व्यू प्वॉइंट का भी आसानी से लुत्फ उठा सकते हैं। यहां घूमने का अच्‍छा समय शाम का होता है इस पार्क में घमने के लिए पर्यटकों से किसी भी प्रकार का कोई शुल्‍क नहीं लिया जाता हैं।

कैसे पहुंचें: इंदौर से अटल बिहारी वाजपेयी पार्क 8.1 किलोमीटर दूरी पर स्थित हैं। एबी रोड के जरिए 30 मिनट में आसानी से पार्क तक पहुंच सकते हैं। इसके अलावा इंदौर एयरपोर्ट से यह पार्क 16.7 किलोमीटर दूरी पर स्थित है, जिससे लोग 43 मिनट में आसानी से पार्क तक पहुंच सकते हैं।

गुलावट लोटस वैली इंदौर (Gulawat Lotus Valley Indore)

इंदौर

इंदौर के समीप लोटस वैली नाम से प्रसिद्ध इस जगह बहुत ही आर्कषक हैं। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से भरी हुई है। इस जगह को छोटा कश्मीर के नाम से भी जाना जाता है। यह स्थान भी इन्‍दौर से करीब 35 किलोमीटर दूर है। यहां फूल एक झील में खिलते हुए देख सकते हैं। यहां पर बहुत बड़ा जलाशय है, जिसमें कमल के फूल देखने के लिए मिलते हैं। यहां यशवंत सागर बांध का भराव क्षेत्र हैं। इस झील में आप खूबसूरत कमल का मनोरम दृश्य दिख सकते हैं।

आप यहां नौका विहार और घुड़सवारी जैसी कुछ गतिविधियों मे भी भाग ले सकते हैं साथ ही  घाटी के पास स्थित हनुमान मंदिर के दर्शन भी कर सकते हैं। यहां पर लाल कमल और सफेद कमल के फूल देखने के लिए मिलते हैं। बांस के पेड़ देखने के लिए मिलते हैं और यशवंत सागर बांध का भराव क्षेत्र देखने के लिए मिलता है। यहां के चारों तरफ का, जो इलाका है, वह ग्रामीण इलाका है। यहां पर आपको ग्रामीण सुंदरता भी देखने के लिए मिलती है।

कैसे पहुंचें:  इंदौर से गुलावट लोटस वैली इंदौर की दूरी करीब 35 किलोमीटर है, पर्यटक यहां कार या अन्‍य साधन से आसानी से पहुंच सकते हैं।

यह भी पढें : जानिए खजुराहो मंदिर की कुछ खास बातें, जिनके कारण दुनिया भर में हैं फेमस जाने सम्‍पूर्ण जानकारी

शीतला माता फॉल (Sheetla Mata Fall) 

पर्यटन स्‍थल

शीतला माता फॉल इंदौर से 60 किलोमीटर, मानपुर से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं यहां दो झरने स्थित है शीतला माता फॉल की ऊपर से गिरती हुई पानी की धाराएं यहां पर आये पर्यटक को एक खूबसूरत नजारा दिखाती हैं। साथ ही यहां 3 प्राकृतिक प्राचीन गुफाएं भी मौजूद हैं। माना जाता है कि वह होलकर राज्य के पिंडारयों के छिपने की जगह हुआ करती थी।

पहाड़ों की बीच बने इस स्थल पर अधिकतर पर्यटक नहाने के लिए झरने के नीचे जाते हैं पर यहां जा कर इस खूबसूरत नजारे का लुफत उठा सकते हैं।शीतला माता फॉल जाते समय आपको दो टोल टैक्स देने होंगे। यदि आप महू के अंदर से जाते है तो एक टोल और मानपुर हाई वे जाते है तो नेशनल टोल टैक्स देना होगा।

कैसे पहुंचें: शीतला माता फॉल इंदौर से 60 किलोमीटर, मानपुर से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं आप यहा अपने निजी वाहन से आसानी से पहुंच सकते हैं।

जानापाव कुटी (janapav hut)

पर्यटन स्‍थल

इंदौर से 40 किलोमीटर दूर एबी रोड पर जानापाव कुटी स्थित हैं। जानापाव कुटी भगवान परशुराम का जन्म स्थान भी माना जाता है। आप यहां जाकर जंगलों से गुजरते हुए प्राकृतिक वातावरण का आनंद लेते हुए जानापाव कुटी जा सकते हैं यह एक बहुत ही खूबसूरत स्‍थान हैं। यहां के शानदार प्राकृतिक वातावरण के दृश्य को देखकर अचंभित रह जाते हैं।

कल कल करती नदियां, झरने, और जंगली जानवर यहां आने वाले पर्यटकों को अपनी और आर्कषित करते हैं। कुछ नदियों का उद्गम स्थल भी जानापाव पहाड़ी से हुऐ हैं जिनमें चंबल नदी, गंभीर नदी, सुमरिया नदी, बेरम नदी, चोरल नदी, कारम नदी, कलेश्वरी नदी शामिल हैं।

कैसे पहुंचें:  जानापाव कुटी इंदौर शहर से करीब 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं आप यहा अपने नीजी वाहन से आसानी से पहुंच सकते हैंं।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!