अतिवृष्टि के बाद दीवार ढहने से महिला की मौत

अतिवृष्टि के बाद दीवार ढहने से महिला की मौत

इटारसी। लगातार हुई बारिश के बाद ग्राम मेहरागांव (Village Mehragaon) में एक मकान की दीवार ढहने से घर की एक बुजुर्ग महिला की मौत हो गयी है। महिला का शव पोस्टमार्टम (Post mortem) के लिए सरकारी अस्पताल (Government Hospital) लाया गया है।
अनुविभागीय अधिकारी राजस्व मदन सिंह रघुवंशी (Sub-Divisional Officer Revenue Madan Singh Raghuvanshi) ने बताया कि महिला के परिजनों को शासकीय योजना (Government Planning) अनुसार आर्थिक मदद की जाएगी। उन्होंने बताया कि मेहरागांव की महिला शांतिबाई बरखने की दीवार गिरने से मौत हुई है।

मदद के लिए भी उठे हाथ

बाढ़ का पानी भी उतर रहा है, और बाढ़ के पानी से उजड़ी गृहस्थी को देख आंखों में उतरा पानी और पेट में भूख से पड़ते बल को कम करने का प्रयास सेवा में उठे हाथों के कारण कम हो रहे हैं। राहत शिविरों (Relief Camps) में प्रशासन जो व्यवस्था दे रहा है, उससे इतर समाज सेवा करने वाले हाथ भी उठने लगे हैं। बाढ़ पीडि़त क्षेत्रों में खाना पहुंचाने के लिए सैंकड़ों लोग आगे आये हैं।

गुरुद्वारा गुरुसिंघ सभा (Gurdwara Gurusingh Sabha) के अलावा राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता, पार्षद का चुनाव लड़े नेता और उनके समर्थक भी मैदान में उतर गये हैं। बंगलिया क्षेत्र के भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) के कार्यकर्ताओं ने अपने आसपास बाढ़ से घिरे क्षेत्र में लोगों को भोजन पहुंचाने की जिम्मेदारी उठा ली है तो पुरानी इटारसी ( Old Itarsi) के वार्ड 4 में भी नवयुवकों की टीम (Team) भोजन पकाने में जुट गयी है। गुरुद्वारा में रात में ही तैयारी प्रारंभ कर दी थी। मौसम का रुख देकर समिति के सदस्यों ने तय कर लिया था कि जितनी जल्दी हो सके, पीडि़तों तक भोजन पहुंचाया जाएगा। यहां युवाओं की टीम ने मोर्चा संभाल लिया और बाढ़ पीडि़त इलाकों में भोजन पहुंचाना प्रारंभ कर दिया। कमेटी (Committee) ने लोगों से आग्रह भी किया है कि जहां भी भोजन की आवश्यकता हो, तत्काल गुरुद्वारा में खबर भेजें, भोजन पहुंचाया जाएगा।

इन जगहों पर बनाये थे शिविर

प्रशासन ने मेकलसुता आईटीआई (Mekalsuta ITI) नदी मोहल्ला, आचार्य मंगल भवन (Acharya Mangal Bhavan) और त्रिशलानंदन गार्डन (Trishalanandan Garden), कुर्मी भवन (Kurmi Bhawan) को बाढ़ राहत शिविर के लिए आरक्षित किया था। कुछ देर कुछ भवनों में बाढ़ प्रभावित लोग रहे, लेकिन पानी उतरने के बाद लोग अपने घरों को पुन: व्यवस्थित करने निकल पड़े हैं। घरों की सफाई में लोग जुट गये हैं। एसडीओ राजस्व (SDO Revenue) मदन सिंह रघुवंशी का कहना है कि नगर पालिका के सहयोग से करीब दो हजार लोगों को भोजन उपलब्ध कराया है और गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी व अन्य संस्थाएं भी बाढ़ पीडि़तों की भोजन सेवा कर रही हैं।

TAGS
Share This

AUTHORRohit

I am a Journalist who is working in Narmadanchal.com.

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )
error: Content is protected !!