कोरोना का खौफ : जिम खुले, शेष व्यावसाय प्रभावित

कोरोना का खौफ : जिम खुले, शेष व्यावसाय प्रभावित

आगामी दिनों में अर्थव्यवस्था बिगडऩे का अंदेशा
इटारसी। जानलेवा कोरोनावायरस को लेकर सारा देश खौफजदा है। सरकार ने आमजन में फैले डर को खत्म करने के लिए जागरुकता अभियान चला रखे हैं। विभिन्न संचार माध्यमों से लोगों को इससे बचने के उपायों को संदेश के माध्यम से बताया जा रहा है। जहां लोगों को भीड़ के रूप में एकत्र होने से मना करने स्वास्थ्य मंत्रालय ने एडवायजरी जारी की है, वहीं जिम संचालकों के लिए ऐसी कोई एडवायजरी अलग से जारी नहीं हुई है, तो शहर के जिम हमेशा की तरह चल रहे हैं।
दरअसल, हम बात कर रहे हैं, शहर में चलने वाले जिम पर कोरोना वायरस की एडवायजरी का कोई असर नहीं होने की। एक जिम संचालक से जब इस विषय में बात की तो उनका कहना था कि हमारे पास ऐसे कोई आदेश नहीं आए हैं। आदेश आएंगे तो हम भी बंद कर देंगे। मामले में जब अनुविभागीय अधिकारी राजस्व हरेन्द्र नारायण से बात की तो उनका साफ कहना है कि जिम संचालकों को अलग से एडवायजरी जारी नहीं होगी। स्वास्थ्य विभाग ने जो एडवायजरी जारी की है, वह संपूर्ण देश के लिए हैं, इसमें जिम भी शामिल हैं, जिम भी बंद होना चाहिए।

प्लेटफार्म टिकट दस 50 रुपए में
कोरोना वायरस के कारण रतलाम, जबलपुर और भोपाल रेल मंडल में रेलवे स्टेशनों पर भीड़ को नियंत्रित रखने प्लेटफार्म टिकट 50 रुपए कर दिया है। हालांकि लोग इसे अव्यवहारिक बता रहे हैं। इस मामले में भोपाल रेल मंडल के जनसंपर्क अधिकारी आईए सिद्दीकी ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को लेकर मंडल के भोपाल, हबीबगंज, इटारसी और बीना रेलवे स्टेशन पर अस्थायी तौर पर 18 मार्च की रात 12 बजे से प्लेटफार्म टिकट 10 से बढ़ाकर 50 रुपए किये जा रहे हैं। यात्रियों से अनुरोध किया है कि वे स्टेशन पर भीड़भाड़ कम करने के लिए रेलवे प्रशासन को मदद करें। हालांकि रेलवे के इस निर्णय को लोग अव्यवहारिक बता रहे हैं। लोगों का मानना है कि अपने रिश्तेदारों को छोडऩे या रिसीव करने प्लेटफार्म तक जाने से रोकने टिकट की दरें नहीं बढ़ा सकते। जो रेलवे स्टेशन पर जा रहे हैं, उनकी जांच की जा सकती है, जैसे एयरपोर्ट पर करके पूरी तरह से संतुष्ट होकर लोगों को देश में आने दिया जा रहा है।

अभी और बिगड़ेगी अर्थ व्यवस्था
कोरोना को लेकर सरकार कई तरह के प्रयास कर रही है, लेकिन एक डर का जो माहौल बन गया है, उससे लोगों ने अब भीड़ से अलग रहने का मन बना लिया है। शासन की जागरुकता मुहिम के लिए यह अच्छी बात कही जा सकती है। लेकिन, व्यापार की दृष्टि से यह अच्छा नहीं है। दरअसल, इसके चलते शहर का खानपान व्यावसाय के अलावा बाजार के अन्य व्यावसाय भी प्रभावित हो रहे हैं। कोरोना में जहां भीड़ भरे स्थानों पर जाने से बचने की सलाह दी जा रही है तो यह लोगों के मन में असर कर गयी और लोग घरों से निकलने में परहेज कर रहे हैं। सराफा बाजार में ग्राहकी में करीब 30-40 प्रतिशत फर्क आ गया है तो इतना ही लगभग रेडिमेड और अन्य कपड़ा व्यवसाय में आया है। सबसे अधिक प्रभावित खानपान कारोबार हो रहा है, क्योंकि मुंह, आंख, नाक में हाथ लगाने से मना किया जा रहा है। खानपान कारोबार में पकाने वाला, परोसने वाला भी अलग होता है और लोग शुद्धता के मामले में भरोसा ही नहीं कर पा रहे हैं।

जिम में चल रहा है काम
स्वास्थ्य विभाग की एडवायजरी के बाद जहां स्कूल-कालेज, आंगनवाड़ी, कोचिंग क्लासेस की छुट्टियां कर दी गई हैं वहीं जिम के लिए भी ऐसे ही आदेश हैं। लेकिन, जिम का संचालन हमेशा की तरह ही हो रहा है। हर रोज सुबह और शाम को युवा और अन्य लोग जिम में पहुंचकर वर्कआउट कर रहे हैं। प्रशासनिक अधिकारियों की मानें तो जिम का संचालन भी बंद होना चाहिए, क्योंकि एडवायजरी सारे देश के लिए एक ही है, जिम के लिए अलग से कोई आदेश जारी नहीं किये जाएंगे।

मंदिर में भी एहतियात
कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए जहां देश के मंदिरों में व्यवस्थाएं बदली हैं, वहीं शहर के मंदिरों में भी कुछ बदलाव किये हैं। श्री हनुमानधाम मंदिर में भक्तों की संख्या भी पचास फीसदी कम हो गयी है तो मंदिर समिति ने भी भक्तों से बाहर हाथ धोकर प्रवेश करने की प्रक्रिया अपनायी है और मंदिर परिसर में कम भक्तों को एक बार में प्रवेश देकर दर्शन के बाद बाहर आने को कहा जा रहा है। श्री बूढ़ी माता मंदिर में परिसर बड़ा है और एक साथ भक्तों की बड़ी संख्या भी यहां नहीं आती है।

आयोजन भी हो रहे प्रभावित
कोरोना वायरस की रोकथाम के उपायों में आयोजनों को भी स्थगित किया जा रहा है। इसके तहत सरकारी, धार्मिक, सामाजिक आयोजन भी निरस्त किये जा रहे हैं। केसला में 18 मार्च, मंगलवार को होने वाला आपकी सरकार, आपके द्वार कार्यक्रम स्थगित किया है तो मंगलवार को होने वाली जनसुनवाई भी आगामी आदेश तक स्थगित रहेगी। सिंधी समाज ने भी चैतीचांद महोत्सव के आयोजन रद्द कर दिये हैं।

इनका कहना है…!
सराफा बाजार कोरोना के चलते प्रभावित हुआ है, अंतर्राष्ट्रीय बाजार प्रभावित होने से चांदी की कीमतों में खासी गिरावट आयी है। यहां करीब तीस से चालीस फीसद ग्राहक कम आ रहे हैं। लोग भीड़ से बचने की कोशिश में बाजार आने से परहेज कर रहे हैं। अन्य दिनों की अपेक्षा बाजार में ग्राहकी में कमी आयी है।
यज्ञदत्त गौर, अध्यक्ष सराफा एसोसिएशन

अफवाहों ने बाजार को खासा प्रभावित किया है। जागरुकता अभियान में जो गाइड लाइन तय होनी थी, उसका अभाव होने से लोग डर के माहौल में हैं और बाजार आने से परहेज कर रहे हंै, दरअसल मौसम का संधिकाल है तो सर्दी-खांसी-बुखार के मरीज भी डर से घरों में कैद होकर रह गये हैं।
दीपक हरिनारायण अग्रवाल, अध्यक्ष संयुक्त व्यापार महासंघ

रेडिमेड कपड़ा व्यापार में भी तीस से चालीस फीसदी की कमी आयी है। दरअसल, बाजार में आम दिनों की अपेक्षा जो लोगों में कमी आयी है तो जाहिर है, ग्राहकी भी कम ही होगी। लोगों के मन में कोरोना को लेकर जो भय का माहौल है, यदि यही रहा तो आने वाले समय में अर्थव्यवस्था बुरी तरह से प्रभावित होगी।
कन्हैया गुरयानी, सचिव संयुक्त व्यापार महासंघ

फिलहाल, शाकाहारी खानपान पर अधिक प्रभाव नहीं पड़ा है, हां, मांसाहारी होटल व्यवसाय प्रभावित हो सकता है। हमारे यहां अभी तक हमें ऐसा महसूस नहीं हुआ है कि ग्राहकी में कोई कमी आयी हो।
दशरथ सिंह राजपूत, खानपान व्यावसायी

हां, मंदिर में भक्तों की संख्या में 50 फीसदी की कमी आयी है। मंगलवार को सुंदरकांड के बाद होने वाली आरती में हमने यह कमी महसूस की। जहां तक एहतियात की बात है, कम संख्या में भक्तों को प्रवेश दे रहे और दर्शन के बाद रुकने नहीं दे रहे हैं। मंदिर के बाहर नलों पर हाथ धोने की व्यवस्था है।
लखन बैस, सेवादार हनुमानधाम मंदिर

श्री बूढ़ी माता मंदिर में एकसाथ बड़ी संख्या में भक्तों का आगमन केवल आयोजनों के वक्त होता है या फिर कोई माता पूजन के लिए आता है। अन्य दिनों में तो भक्त कम संख्या में सारा दिन आते रहते हैं। जहां तक एहतियात की बात है तो इसके लिए समिति स्वयं कार्य करती रहती है।
जगदीश मालवीय, सचिव श्री बूढ़ी माता मंदिर समिति

पालन करना होगा
शासन ने कोरोना वायरस के मामले में जो एडवायजरी जारी की है, उसका पालन सभी को करना होगा। स्कूल, कालेज, मॉल, टॉकीज, कोचिंग, आंगनवाड़ी, जिम सबकुछ आगामी आदेश तक बंद रखे जाना है। किसी के लिए अलग से आदेश जारी नहीं होंगे।
हरेन्द्रनारायण, एसडीओ राजस्व

कम संख्या में स्टेशन आयें
यात्रियों और उनके परिजन कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए प्लेटफार्म पर कम संख्या में आयें। आवश्यक हो तो प्लेटफार्म टिकट लेकर ही जायें, प्लेटफार्म पर थूकने से परहेज करें और दूसरों को भी रोकें। भोपाल, इटारसी स्टेशनों पर यात्रियो को कोरोना वायरस से बचान हेतु वीडियो क्लिप से सचेत किया जा रहा है।
उदय बोरवणकर, डीआरएम भोपाल

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: