Breaking News

लापता नाबालिगों का सगे जीजा ने किया अपहरण फिर…

लापता नाबालिगों का सगे जीजा ने किया अपहरण फिर…

इटारसी। केसला के एक गांव से करीब 9 माह पूर्व लापता हुईं दो नाबालिग में से एक बनखेड़ी के पास के गांव और दूसरी नरसिंहपुर के पास एक गांव में मिली है। दोनों को एक परिचित काम दिलाने के बहाने बहला-फुसलाकर ले गया और 50-50 हजार में बेच दिया। एक खरीदार ने एक की शादी अपने बेटे से कर दी तो दूसरी नाबालिग को दो लोगों ने शारीरिक संबंध बनाए और पत्नी बनाकर रखा।
मुखबिर की सूचना के बाद केसला पुलिस ने दोनों को बरामद किया। मामले में तीन आरोपी पकड़े गए हैं, दो फरार हैं। पुलिस ने गिरफ्तार तीनों आरोपियों का मेडिकल कराने के बाद आज कोर्ट में पेश किया जहां से उन्हें जेल भेज दिया है।

स्कॉलरशिप लेने आयीं थी केसला
केसला ब्लॉक के गांव में रहने वाली दोनों लड़कियां नाबालिग हैं। ये 11 सितंबर 17 को स्कॉलरशिप लेने अपने गांव से केसला स्थित बैंक आयीं थीं। यहां उनको एक लड़की का परिचित वीरू सपेरा नामक युवक मिला जिसने उनको कहा कि उसके साथ बनखेड़ी चलो, वहां काम करना और खाना-पीना और रहना। लड़कियां उसकी बातों में आ गयीं और बिना घर लौटे उसके साथ हो लीं। वीरू उनको बनखेड़ी के पास उनके गांव बंदरझिला ले गया। वहां तीन-चार दिन रखा।

सपेरों को बेच दिया दोनों को
वीरू ने कुछ दिन अपने घर रखने के बाद एक लड़की को पहले भाईजी सपेरा को पचास हजार रुपए में बेच दिया। भाईजी ने अपने लड़के विक्रम सपेरा से उसकी शादी कर दी। इसी तरह से दूसरी लड़की को वीरू ने ग्राम भैंसा जिला नरसिंहपुर के राकेश सपेरा और बसंत सपेरा को 50 हजार रुपए में बेच दिया। दोनों ने समय-समय पर उसके साथ बलात्कार किया और उसके अपनी पत्नी बताते रहे। मुखबिर की सूचना के बाद पुलिस ने इस लड़की को भी बरामद कर लिया है।
केसला थाना प्रभारी अशोक बरवड़े ने बताया कि मामले में पुलिस ने अपहरण का केस रजिस्टर्ड किया था और लगातार विवेचना की जा रही थी। एसपी अरविंद सक्सेना के निर्देशन और एसडीओपी अनिल शर्मा के मार्गदर्शन में टीम गठित की जिसमें वे स्वयं नेतृत्व कर रहे थे और एएसआई केएन रजक, प्रधान आरक्षक सुरेन्द्र सराठे, आरक्षक ब्रज नर्रे, सैनिक प्रदीप ने मुखबिरों को सक्रिय किया और टीम की मेहनत रंग लायी। पुलिस ने दोनों नाबालिग को बरामद कर लिया है।
केसला पुलिस ने नौ माह पूर्व हुए इस अपहरण मामले की गुत्थी सुलझा ली है। केसला पुलिस ने इस पर लगातार मेहनत की और मुखबिरों की मदद ली। मामले में आरोपी वीरू सपेरा, भाईजी सपेरा, विक्रम सपेरा तीनों निवासी बंदरझिला, थाना बनखेड़ी को गिरफ्तार कर लिया है जबकि नरसिंपुर जिला निवासी राकेश और बसंत सपेरा अभी फरार हैं। इन पर 366, 370 (क) 376 (2)आई, (2)एन 120 बी आईपीसी, 5/6 पास्को एक्ट का प्रकरण दर्ज कर कोर्ट में पेश किया है।

Tagged with
error: Content is protected !!