Breaking News

जरा सी कहासुनी और अनजान व्यक्ति की ले ली जान

जरा सी कहासुनी और अनजान व्यक्ति की ले ली जान

इटारसी। इंडियन ऑयल डिपो के पास स्थित बड़ी पुलिया के नीचे गंभीर घायल अवस्था में मिले एक अज्ञात व्यक्ति और बाद में उसकी अस्पताल में हुई मौत के बाद जो कहानी निकलकर आयी है, उसमें अभी हत्या का कोई बड़ा कारण सामने नहीं आया है। पथरोटा थाना प्रभारी अमित कुमार आईपीएस का कहना है कि जो व्यक्ति मरा है, वह आरोपियों का हमराह ही था और उनसे कुछ आगे चल रहा था। किसी बात को लेकर इनमें कहा-सुनी हो गई और सागर धौलपुरिया ने तैश में आकर उसे खींचकर पुलिया के नीचे ले गया और वहशियत दिखाते हुए पत्थर मार-मारकर उसे मरणासन्न कर दिया। बाद में अस्पताल में उपचार के दौरान उसकी मौत हो गयी। वो अनजान व्यक्ति कौन था, इतनी रात को कहां जा रहा था, इसकी अभी जांच की जा रही है। पुलिस उस व्यक्ति की तलाश में जुटी है। अलबत्ता आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।
पथरोटा थाने में आज दोपहर हुई प्रेसवार्ता में एसडीओपी अनिल शर्मा, थाना प्रभारी अमित कुमार आईपीएस ने बताया कि घटना 5 जून की रात करीब 10:30 बजे की है, जिसमें विवाद और झूमाझटकी के दौरान अज्ञात व्यक्ति करीब 45 वर्ष को पत्थर मारकर सागर धौलपुरिया और मोहित कनोजिया ने गंभीर रूप से घायल कर दिया था। बाद में दोनों ने भागने की नीयत से एक अन्य ग्रामीण बृजेश बड़कुर की बाइक छीनकर इटारसी तरफ भाग निकले थे। गांव वालों के इकट्टा होने पर पुलिया के नीचे से कराहने की आवाज आयी जिसे रोशनी में देखने पर घायल व्यक्ति दिखा।
पुलिस ने हत्या एवं लूट के अपराधी की गंभीरता को देखते हुए एसडीओपी अनिल शर्मा, थाना प्रभारी पथरोटा अमित कुमार ने पुलिस टीम का नेतृत्व किया और विवेचना के दौरान आरोपी सागर धौलपुरिया पिता नंदू धौलपुरिया 26 वर्ष, निवासी नरेन्द्र नगर एवं मोहित कनोजिया पिता ज्ञानी कनोजिया उम्र 19 वर्ष, निवासी रेलवे क्वार्टर बारह बंगला को गिरफ्तार कर पूछताछ की तो उन्होंने अपना जुर्म कबूल कर लिया। उनकी निशानदेही पर बाइक भी बरामद कर ली है। आरोपी सागर का पुराना भी एक ३२५ आपीसी का क्रिमिनल रिकॉर्ड है। अनजान व्यक्ति के बारे में पूछने पर परीवीक्षाधीन आईपीएस अमित कुमार ने बताया की नेशनल लेबल पर जाकर मिसिंग पर्सन द्वारा तलाश की जाएगी। टीम में परीवीक्षाधीन आईपीएस अमित कुमार, एसआई गिरीश दुबे, एएसआई भोजराज बरबड़े, आरक्षक अशोक, टिल्लू एवं गोपाल तथा सैनिक संजय ने दोनों मामलों में सक्रिय होकर सफलता प्राप्त की।

error: Content is protected !!