मंडी में धूल, अब नहीं

मंडी में धूल, अब नहीं

इटारसी। कृषि उपज मंडी प्रांगण में अब किसानों, हम्मालों, मंडी कर्मचारियों और जनप्रतिनिधियों को वर्षों से परेशान कर रही धूल से छुटकारा मिलने वाला है। यदि मंडी समिति के प्रस्ताव पर मंडी बोर्ड ने मुहर लगा दी तो फिर जल्द ही यहां धूल बीते दिनों की बात हो जाएगी।
दरअसल मंडी परिसर की सभी रोडों के डामरीकरण के साथ नालियों और रोड के बीच के हिस्से में लाल पेवर ब्लॉक और पौधरोपण के लिए एक करोड़ रुपए का प्रस्ताव भेजा गया है। बोर्ड से स्वीकृति मिलने के बाद मंडी के दोनों गेट से रेलवे लाइन किनारे स्थिति गोदाम तक, मंडी के वर्तमान कार्यालय से दुर्गा मंदिर तक डामरीकृत रोड, रोड के किनारे पेवर ब्लाक और पौधरोपण का काम शुरु होगा जिससे मंडी परिसर को धूल से मुक्त किया जा सकेगा।
गर्मी में मिलेगा शुद्ध पानी
इस गर्मी में जब सूरज आग उगल रहा होगा, मंडी परिसर में अपनी उपज बेचने आने वाले किसानों को गर्मी से बचाने शीतल और शुद्ध पानी पीने को मिलेगा। मंडी परिसर में एक जल शुद्धिकरण संयंत्र की स्थापना की जा रही है। इस पूरे प्रोजेक्ट पर करीब छह लाख रुपए का व्यय होने की संभावना है। सचिव सुनील गौर ने बताया कि 31 मार्च के पूर्व इसे शुरु करने की योजना है। इसके लिए दस गुणा दस का एक कक्ष तैयार है, मशीनें भी लगाई जा रही हैं। अप्रैल माह से यहां सभी के लिए शुद्ध पानी मिलने लगेगा।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: