Breaking News

किसानों के आंदोलन के बाद पुलिस सुरक्षा में हो रही खरीद

किसानों के आंदोलन के बाद पुलिस सुरक्षा में हो रही खरीद

इटारसी। कृषि उपज मंडी में उड़द की खरीद का कार्य पुलिस की निगरानी और सुरक्षा में हो रहा है। पुलिस अधिकारी भी दिन में मंडी परिसर का दौरा कर रहे हैं और मंडी के गेट के साथ ही खरीद स्थल पर भी पुलिस कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है। जिला प्रशासन और नगर प्रशासन पूरे खरीद कार्य पर नजर रखे हुए हैं।
कतिपय किसान नेताओं की बातों में आकर मंगलवार को कुछ किसानों ने जो नेशनल हाईवे पर जाकर चक्काजाम आंदोलन किया उसके बाद प्रशासन किसी प्रकार का जोखिम नहीं उठाना चाहता है। मूंग फसल की खरीद के दौरान प्रशासन और पुलिस को सारे कामकाज छोड़कर परेशान होना पड़ा था। इधर लगातार उड़द की आवक होने से हालात बिगडऩे लगे हैं और आज मंडी प्रबंधन को किसानों से यह अनुरोध करना पड़ा कि किसान गुरुवार और शुक्रवार को उपज लेकर मंडी में नहीं आएं। कृषि उपज मंडी समिति के अध्यक्ष विक्रम तोमर ने मंडी में अनाज लेकर आने वाले किसानों से अनुरोध किया है कि उड़द की भारी आवक को देखते हुए वे गुरुवार को अपनी उपज लेकर न आएं। मंडी में उड़द की भारी आवक को देखते हुए यहां किसानों को देरी होने से ठंड के मौसम में परेशान होना पड़ सकता है।
बताया जाता है कि कृषि उपज मंडी में जो उपज की खरीद हुई है, उसका परिवहन नहीं हुआ है और शेडों में चार से पांच हजार क्विंटल उड़द पड़ी हुई है। इसके अलावा कल और आज भी करीब सौ ट्रालियां उड़द लेकर अपना नंबर आने के इंतजार में मंडी परिसर में यहां-वहां खड़ी हैं। ऐसे में यदि कल भी कोई किसान अपनी उपज लेकर आता है तो उसे अपने नंबर का इंतजार करना पड़ेगा जो इस ठंड के मौसम में उसके लिए परेशानी का सबब बन सकता है। मंडी प्रबंधन का मानना है कि यदि किसान गुरुवार और शुक्रवार को उपज नहीं लाते हैं तो फिर स्थिति में कुछ सुधार की उम्मीद की जा सकती है।

इनका कहना है…!
हमने किसान भाईयों से अनुरोध किया है कि मंडी में लगातार आवक होने से बड़ी मात्रा में उड़द की ट्रालियां आ गई हैं। आवक अधिक हो जाने से स्थिति न बिगड़ेे इसलिए किसान 7 एवं 8 दिसंबर को उड़द, धान आदि मंडी में बिक्री के लिए न लेकर आएं।
विक्रम तोमर, मंडी अध्यक्ष

अनाज की बड़ी मात्रा में आवक हो रही है। वर्तमान में करीब सौ ट्रालियां बिक्री के इंतजार में खड़ी हैं। ऐसे में और अनाज लेकर किसान आए तो उनको ही परेशानी होगी। इसलिए उनको रुकने को कहा है।
सुनील गौर, मंडी सचिव

error: Content is protected !!