जुलाई के लेबल से 28 फीट दूर है तवा (Tawa Dam) का जलस्तर

जुलाई के लेबल से 28 फीट दूर है तवा (Tawa Dam) का जलस्तर

मानसून का आगाज बहुत अच्छा रहा, मध्य में आकर पड़ा कमजोर
इटारसी। होशंगाबाद और हरदा जिले को हरित क्रांति देने वाले तवा बांध (Tawa Dam) का पेट अभी करीब 35 फीट खाली है। जहां 31 जुलाई को इसका गवर्निंग लेबल 1158 फीट तय है, वहीं इस लेबल से ही यह 28 फीट दूर है। मानसून का आगाज तो तय वक्त पर और काफी आशाजनक रहा था, मध्य में आकर यह कमजोर पड़ गया।
बीते वर्ष देरी से मानसून आने के बावजूद अच्छी वर्षा होने से डेम में इतना पानी आ गया था कि बार-बार बांध के गेट खोलकर पानी निकालना पड़ा था। इस वर्ष शुरुआती दौर में बारिश ने उम्मीद जतायी थी कि अच्छी वर्षा होगी, लेकिन, मानसून का आगाज अच्छा होने के बाद बारिश बंद हुई तो फिर केवल बौछारों भरा मौसम ही देखने को मिल रहा है। मौसम विभाग का अनुमान भी ये मानसून झुठला रहा है। ऐसे में तवा बांध उम्मीद के मुताबिक भर पाएगा, इसमें संदेह है।

जुलाई का कोटा ही पूरा नहीं
तवा बांध (Tawa Dam) में अभी जुलाई का कोटा ही पूरा नहीं हुआ है। अभी तवा का पेट जुलाई के मान से ही 28 फीट खाली है। प्रारंभ से हुई अच्छी बारिश के बावजूद जुलाई जून के अंत और जुलाई का पूरा माह खत्म हो गया, लेकिन उम्मीद के मुताबिक वर्षा नहीं हो सकी। जहां सावन में झड़ी लगती थी, कभी लगातार पानी नहीं वर्षा। दो से तीन घंटे, कभी महज एक घंटे ही बारिश हुई है। बारिश के मौसम का लगभग आधा समय बीतने के बावजूद तवा बांध अभी तक लबालब होने की स्थिति में नहीं है।

कितना खाली है तवाबांध (Tawa Dam)
बांध में जलभराव के लिए मानूसन अवधि का शेड्यूल बनाया है, इसके मुताबिक निर्धारित जलभराव से अधिक होने पर बांध से पानी छोड़ा जाता है। 31 जुलाई तक बांध में कुल 1158 फीट पानी होना था। अभी तक मात्र 1129.60 फीट ही पानी है, जबकि पिछले वर्ष 1136.20 फीट पानी था। इस हिसाब से अभी तक करीब 28 फीट पानी कम है। बांध के कैचमेंट एरिया, पचमढ़ी और बैतूल में लगातार और बारिश की दरकार है। यदि बारिश नहीं हुई तो यह लेबल भी पहुंचना मुश्किल हो जाएगा।

तो नहीं खुलेंगे तवा के गेट
यही हाल रहा तो तवा बांध के गेट नहीं खुलेंगे। 31 जुलाई तक का वाटर लेबल 1158 फीट होना था जो महज 1129.80 है और यह निर्धारित से करीब 28 फीट कम है। ऐसे में फिलहाल तो बांध के गेट खुलने की उम्मीद कम ही है। आगामी दिनों में बारिश में तेजी आयी और बांध में वाटर लेबल चार्ट के निर्धारण से अधिक जल जमाव हुआ तो बांध के गेट खोले जा सकते हैं। हालांकि अभी तो कैचमेंट एरिया के अलावा बैतूल और पचमढ़ी, सारणी के सतपुड़ा बांध से भी तवा में पानी नहीं आ रहा है।

विभाग को है अभी उम्मीद
जल संसाधन विभाग को अभी उम्मीद है। मौसम के पूर्वानुमान के मुताबिक 4 अगस्त के बाद से मानसून के रफ्तार पकडऩे की उम्मीद है। ऐसे में विभाग के अफसर मानते हैं कि तय लेबल प्राप्त कर लेंगे। एसडीओ (SDO TAWA) तवा के अनुसार 4 अगस्त के बाद से मानसून को गति मिलने की उम्मीद है। पिछले वर्ष धीमी शुरुआत के बाद 28 जुलाई से मानसून ने रफ्तार पकड़ी थी और हर रोज 60-70 मिलीमीटर वर्षा होने के बाद बांध में पानी आना प्रारंभ हुआ तो आखिरकार 14 अगस्त को बांध के गेट खोलने पड़े थे।

क्या है वॉटर लेबल चार्ट (Water label chart)
31 जुलाई तक – 1158.00 फीट
15 अगस्त तक -1160.00 फीट
31 अगस्त तक – 1163.00 फीट
15 सितंबर तक – 1165.00 फीट
30 सितंबर तक – 1166.00 फीट

इनका कहना है…!
अभी 4 अगस्त के बाद से मानसून के रफ्तार पकडऩे की उम्मीद है। पिछले वर्ष भी बारिश काफी लेट आयी थी। लेकिन, इसके बाद हालात यह हो गये थे कि 14 अगस्त को बांध के गेट खोलने पड़े थे। अभी भी उम्मीद है, मानसून बहुत अच्छा होगा।
एनके सूर्यवंशी, एसडीओ (N.K. Suryawanshi, SDO)

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: