परेशानी का सबब : खाली प्लाट्स में भरा है पानी, प्लाट मालिकों का पता नहीं 

परेशानी का सबब : खाली प्लाट्स में भरा है पानी, प्लाट मालिकों का पता नहीं 

किसे करें नोटिस जारी, पड़ोसी भी नहीं बताते

इटारसी। कल हुई मूसलाधार बारिश के बाद नगर में ऐसे दर्जनों खाली प्लाट्स हैं, जिनमें पानी भर गया है और निकास व्यवस्था नहीं होने से दीवान कालोनी (Diwan Colony) और नरेन्द्र नगर (Narendra Nagar) में हालात ज्यादा खराब हैं। नगर पालिका (Nagar Palika Itarsi) ऐसे कई प्लाट्स मालिकों को नोटिस दे चुकी है, जिनकी पहचान हो चुकी है। लेकिन, बड़ी संख्या में ऐसे प्लाट्स भी हैं, जिनके मालिकों का पता नहीं है। पड़ोसी भी इनके विषय में कुछ नहीं जानते हैं। यही प्लाट्स नगर पालिका की परेशानी का सबब बन रहे हैं।
खाली प्लाट्स में भरा पानी मच्छरों को पनपने के लिए सबसे अधिक बेहतर जगह है। जून में मलेरिया का खासा प्रकोप होता है और सरकार इसे मलेरिया माह के तौर पर भी मनाती है। जिन प्लाट्स के मालिक नहीं मिल रहे, उन प्लाट्स पर नगर पालिका नोटिस लगाकर मालिकों के खिलाफ यदि कानूनी कार्रवाई कर सकती है तो अवश्य करना चाहिए, क्योंकि ऐसे लापरवाह लोग दूसरों की जान के दुश्मन बन रहे हैं।

ये कर रहा है स्वास्थ्य विभाग

कलेक्टर नीरज कुमार सिंह (Collector Narmadapuram Neeraj Kumar Singh) ने मंगलवार को एक बैठक में स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिये हैं कि मलेरिया रोग के उन्मूलन के लिए कार्य करें और अस्पतालों में मलेरिया की जांच और उपचार का समुचित बंदोवस्त किया जाए। सिविल अस्पताल इटारसी (Civil Hospital Itarsi) में इस निर्देश पर अमल भी प्रारंभ हो गया है। यहां एक हेल्प डेस्क बनायी गयी है, जहां बुखार पीडि़त आने वाले हर मरीज की स्लाइड बनाकर मलेरिया जांच की जा रही है। मौसम बदलने के साथ ही बुखार पीडि़त मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है। खासकर स्लम एरिया से लोग डॉ.श्याम प्रसाद मुखर्जी शासकीय अस्पताल उपचार कराने के लिए पहुंच रहे हैं।

नगर पालिका (Nagar Palika Itarsi) के ये हैं प्रयास

नगर पालिका (Nagar Palika Itarsi) के कदमों की जानकारी देते हुए सीएमओ हेमेश्वरी पटले (Hemeshwari Patle, CMO) ने बताया कि खाली प्लाट्स के मालिकों को पहले भी नोटिस देकर वहां जलभराव की स्थिति न बने, ऐसे प्रयास करने को कहा था। वर्तमान में भी नोटिस दिये हैं। ऐसे प्लाट्स बड़ी संख्या में हैं, जिनके मालिकों का पता नहीं चल पा रहा है। इन प्लाट्स के साइड में रहने वाले पड़ोसियों और मोहल्ले के लोग भी इनके विषय में कुछ बता नहीं पा रहे हैं। जहां तक बीमारियों का सवाल है, हम जलभराव क्षेत्र में मच्छर न पनपें इसके लिए जलभरे स्थलों और नालियों में कीटनाशक पावडर का छिड़काव और मलेरिया ऑयल (Insecticide Powder and Malaria Oil) का छिड़काव करा रहे हैं।

इनका कहना है…

सिविल अस्पताल में मलेरिया की जांच के लिए हेल्प डेस्क बनायी है। बुखार पीडि़त मरीज की स्लाइड बनाकर मलेरिया जांच की जा रही है। लोगों को भी सावधानी बरतनी चाहिए। घर में कहीं ज्यादा दिन पानी जमा नहीं होने दें, कूलर आदि की सफाई नियमित करते रहें।
डॉ. आरके चौधरी, अधीक्षक सिविल अस्पताल (Dr. RK Choudhary, Superintendent Civil Hospital)

हमने खाली प्लाट्स के मालिकों को पूर्व में भी नोटिस दिये थे और वर्तमान में भी दिये हैं। कई प्लाट ऐसे हैं जिनके मालिकों का पता ही नहीं है, ऐसे में किसे नोटिस दिया जाए। फिलहाल जलभराव वाले क्षेत्र में मलेरिया ऑयल और कीटनाशक का छिड़काव करा रहे हैं।
हेमेश्वरी पटले, मुख्य नगर पालिका अधिकारी (Hemeshwari Patle, CMO)

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!