अस्पताल की अव्यवस्था से नाराज लोगों ने विधायक से की शिकायत

अस्पताल की अव्यवस्था से नाराज लोगों ने विधायक से की शिकायत

इटारसी। डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी शासकीय अस्पताल (Dr. Shyama Prasad Mukherjee Government Hospital) में आज कोविड वैक्सीन (Kovid Vaccine)का दूसरा डोज लेने के लिए पहुंचे विधायक डॉ.सीतासरन शर्मा (Dr. Seethasaran Sharma)ने वहां अपना कोविड टेस्ट (covid Test)कराने आये लोगों ने अव्यवस्था को लेकर शिकायत की और अस्पताल प्रबंधन के प्रति नाराजी जतायी।

नाराज लोगों ने विधायक को बताया कि वे यहां घंटों खड़े रहकर वापस चले जाते हैं, धूप में घंटों लाइन में लगे रहने के बाद भी उनकी नंबर नहीं आ रहा है, ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) की भी धज्जियां उड़ रही हैं। विधायक डॉ.शर्मा ने तत्काल अस्पताल के प्रभारी अधीक्षक डॉ.आरके चौधरी (Dr. RK Chaudhary)को बुलाकर टोकन सिस्टम (Token System)से लोगों का पंजीयन कर जांच करने को कहा।
सेंपलिंग ((Sampling))में देरी से नाराज लोगों ने अस्पताल में काफी देर हंगामा किया। इस दौरान विधायक डॉ.सीतासरन शर्मा वहां वैक्सीनेशन (Vaccination)कराने पहुंचे तो लोगों ने उनकी गाड़ी के पास जाकर उनसे शिकायत की और टोकन सिस्टम करने की मांग की। विधायक ने तत्काल अस्पताल अधीक्षक को टोकन सिस्टम के लिए कहा। उन्होंने कहा कि जो लोग दो दिन से इंतजार कर रहे हैं, उनको प्राथमिकता से जांच की जाए।


रैपिड किट से जांच की मांग
मरीजों की भीड़ में शामिल कई लोगों ने रैपिड एंटीजन किट (Rapid Antigen Kit)से जांच करने की मांग की। हालांकि प्रबंधन ने किट की कमी से ऐसा करने से इनकार कर दिया। सुबह से एंटीजन किट से कुछ जांच होने के बाद किट खत्म हो गयी। अब आरटीपीसीआर (RTPCR) जांच ही की जा रही है जिसके सेंपल भोपाल भेजे जाएंगे।

रिपोर्ट में देरी वाले भी पहुंचे
सिविल अस्पताल में कुछ लोग ऐसे भी पहुंचे थे जिन्होंने कई दिन पूर्व सेंपल दिया था और उनकी जांच रिपोर्ट अब तक भोपाल (Bhopal)से नहीं आयी और उनकी परेशानी बढ़ती जा रही थी। ऐसे चिंताग्रस्त लोग भी अस्पताल आकर अपनी जांच रिपोर्ट कब तक आएगी, यह पूछ रहे थे जिसका प्रबंधन के पास जवाब नहीं था।

अस्पताल के सारे बिस्तर भरे 
अस्पताल के सारे बिस्तर भरे हैं। ऐसे में अस्पताल प्रबंधन के सामने समस्या यह है कि नये आ रहे मरीजों को कहां भर्ती करे? प्रबंधन मरीजों के परिजनों से अन्य जगह ले जाने का निवेदन कर रहा है, यहां पलंग खाली नहीं होने से मरीजों को भर्ती करना भी जोखिम भरा है, क्योंकि संसाधनों और मेन पॉवर की कमी भी है।

CATEGORIES
TAGS
Share This

AUTHORRohit

I am a Journalist who is working in Narmadanchal.com.

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )
error: Content is protected !!