Breaking News

एक करोड़ से बनेगा अस्पताल का नया भवन

एक करोड़ से बनेगा अस्पताल का नया भवन

रोकस ने दी नए दो मंजिला भवन को स्वीकृति
इटारसी। डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी शासकीय अस्पताल को अब एक नया ओपीडी भवन मिलेगा। यह नया भवन दो मंजिला होगा जिसमें वर्तमान ओपीडी में मौजूद सारी व्यवस्थाएं होंगी तथा डाक्टर्स के कक्ष, ऑपरेशन थिएटर, पैथोलॉजी, स्टोर, एक्सरे आदि की सुविधाएं रहेंगी। आज दोपहर अस्पताल के अधीक्षक कक्ष में हुई रोगी कल्याण समिति की बैठक में नए भवन के लिए सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया।
रोगी कल्याण समिति की बैठक मप्र विधानसभा के अध्यक्ष डॉ.सीतासरन शर्मा की अध्यक्षता में हुई। बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पीके चतुर्वेदी, एसडीएम आरएस बघेल, अस्पताल के अधीक्षक डॉ.एके शिवानी, सांसद प्रतिनिधि हरप्रीत सिंघ छाबड़ा, विधायक प्रतिनिधि कल्पेश अग्रवाल, सीएमओ अक्षत बुंदेला, सदस्य रोहित नागे, डॉ. कमलेश कुम्हरे, नपा के आरआई संजय दीक्षित, लोक निर्माण विभाग के एसडीओ अनिल मेहतो सहित अस्पताल में अधीक्षक कार्यालय का स्टाफ मौजूद था।

दो मंजिल का होगा भवन
वर्तमान भवन करीब तीन दशक से भी अधिक पुराना हो गया है। लोक निर्माण विभाग इस भवन को कंडम घोषित कर चुका है। रोगी कल्याण समिति की पिछली बैठक में इस भवन को नया बनाने का प्रस्ताव था, जिसे बनाने की सहमति तभी बन गयी थी, आज प्रशासकीय और वित्तीय स्वीकृति भी मिल गई है। यह भवन करीब पांच हजार वर्गफुट में बनेगा जिसकी लागत एक करोड़ आने का अनुमान है। इसमें पचास फीसदी राशि जिला योजना से लेने पर सहमति बनी है, शेष राशि रोगी कल्याण समिति से व्यय की जानी है। रोगी कल्याण समिति ने इस भवन को जल्द से जल्द बनाने के लिए प्रक्रिया प्रारंभ करने पर सहमति प्रदान की है।

व्यवस्था के लिए नोडल अधिकारी
अस्पताल में व्यवस्था की दृष्टि से अधीक्षक पर काफी भार आ जाता है। रोगी कल्याण समिति के समक्ष प्रस्ताव आया था कि चिकित्सालय की व्यवस्थाएं एवं मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए चार नोडल अधिकारी बनाए जाएं ताकि व्यवस्था में सुधार हो सके। समिति ने इसकी सहमति दे दी है। अब अस्पताल परिसर में शुद्ध पेयजल, पंखे कूलर आदि की व्यवस्था, अस्पताल परिसर की स्वच्छता एवं सुरक्षा, भर्ती मरीजों को दिए जाने वाले नाश्ते एवं भोजन, वार्डबॉय, आया एवं नर्सिंग स्टाफ की नियमित सुचारू ड्यूटी, रोकस की दुकानों का किराया वसूली के लिए अलग-अलग नोडल अधिकारी नियुक्त किए जाएंगे।

बजट की प्रत्याशा में रोकस करेगी व्यय
अस्पताल परिसर में अनेक कार्य ऐसे हैं जो शासन से बजट नहीं मिलने से हो न सके हैं, लेकिन वे जरूरी हैं। समिति ने निर्णय लिया है कि बजट की प्रत्याशा में यह काम रोगी कल्याण समिति कर ले, शासन से बजट मिलने पर समायोजन करा लिया जाएगा। इन कार्यों में स्टेशनरी के पुराने बिलों के की कुल राशि 1 लाख 64 हजार का भुगतान, चिकित्सालय में साफ-सफाई सामग्री, स्टेशनरी व छपाई कार्य हेतु लगने वाली सामग्री की राशि शासन से प्राप्त न होने के कारण रोगी कल्याण समिति से अनुमानित दो लाख की स्वीकृति जैसे कार्यों पर सहमति दी गई। शासन से इनके लिए राशि प्राप्त हो जाने के बाद इस राशि को रोकस में समायोजन कराया जाएगा।

इनको भी मिली सहमति
* चिकित्सालय में समस्त आरओ एवं वाटर कूलर के सालाना अनुरक्षण कार्य कराने पर सहमति। चिकित्सालय में सांसद निधि से दो वाटर कूलर देने का आश्वासन सांसद प्रतिनिधि हरप्रीत छाबड़ा ने दिया।
* चिकित्सालय परिसर में कुर्सी, टेबिल, अलमारी, कूलर, फ्रिज खरीदने एक लाख की स्वीकृति,
* चिकित्सालय की ओपीडी एवं आईपीडी के पर्चे ऑन लाइन करने पर सहमति
* चिकित्सायल में लगे सभी सीसीटीवी कैमरों का सालाना अनुरक्षण कार्य
* सेनेटरी पेड स्पिेंसिंग मशीन प्रसूति वार्ड में एनटीपीसी द्वारा लगाने को सहमति, इसका रख-रखाव चिकित्सालय करेगा
* एम्बुलेंस की मरम्मत के लिए बीस हजार अनुमानित राशि की मंजूरी

error: Content is protected !!