Online workshop: विद्यार्थियों से जुड़कर अपने अनुभव साझा किए

Online workshop: विद्यार्थियों से जुड़कर अपने अनुभव साझा किए

होशंगाबाद। शासकीय गृहविज्ञान महाविद्यालय (Home Science College) में गुरूवार को महात्मा गांधी काउंसिल ऑफ़ रूरल एजुकेशन हैदराबाद के द्वारा ऑनलाइन वर्कशाॅप का आयोजन हुआ। वर्कशाप में एनएसएस अधिकारी इकाई 1 डाॅ. ज्योति जुनगरे, एनएसएस इकाई 2 अधिकारी डाॅ. हर्षा चचाने, एनसीसी अधिकारी डाॅ. संगीता पारे एवं इस वर्कशाप की अध्यक्षता महाविद्यालय की प्राचार्य डाॅ. कामिनी जैन(Principal Dr. kamini jain) ने की। कार्यक्रम की संयोजक ख्याति धुर्वे (Convenor Khyati Dhurve) ने महाविद्यालय की लगभग 80 छात्राओं से जुडकर उनके अनुभवों को साझा किया।

प्राचार्य डाॅ. कामिनी जैन ने छात्राओं का उत्साह वर्धन करते हुए कोरोना काल में भी छात्राओं द्वारा किए जा रहे कार्यो की सराहना की। डाॅ. जैन ने बताया कि हमारा महाविद्यालय विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास हेतु सदैव तत्पर रहता है। एनसीसी, एनएसएस, कैरियर मार्गदर्षन प्रकोष्ठ, पोषण बगिया, वर्मी कम्पोष्ट, मषरूम उत्पादन, हर्बल उद्यान, फैशन डिजाइनिंग इत्यादि इकाईयाॅ छात्राओं को आत्मनिर्भर बनाने में महती भूमिका अदा करते हैं। कई छात्राओं ने इससे लाभांवित होकर व्यवसाय प्रारंभ किया है। संम्पूर्ण महाविद्यालय परिसर पाॅलीथिन मुक्त एवं स्वच्छ है। उन्होने व्यक्तिगत स्वच्छताके साथ साथ मानसिक स्वास्थ्य की महत्ता को बताया।

डाॅ. ज्योति जुनगरे ने योग, व्यायाम एवं व्यक्तित्व विकास पर अपना उद्बोधन दिया उन्होने बताया कि कैसे योग के द्वारा हम अपने आप को स्वस्थ्य एवं तंदुरूस्त रख सकते है।
डाॅ. हर्षा चचाने ने बताया कि हमें शारीरिक स्वच्छता के साथ साथ मानसिक मनोबल को बनाए रखना अति आवष्यक है। यह समय है जब हम अपने आत्मविष्वास को बनाए रखे।
एनसीसी अधिकारी डाॅ. संगीता पारे ने बताया कि एनसीसी के माध्यम से विद्यार्थी में आत्मविश्वास चरम पर होता है वह हर कार्य को अधिकाधिक तन्मयता से करते है।
एनएसएस में राज्य स्तरीय स्तर पर प्रतिनिधित्व कर चुकी रोशनी धोटे ने बताया कि वह कोरोनाकाल में महाविद्यालय के नाम से नर्सरी का निर्माण किया है। जिसमें विभिन्न पौधों को रोपण किया है एवं गाॅव के बच्चों को एकत्र कर पौधारोपण एवं स्वच्छता के लिए प्रेरित कर रही है एमएसडब्ल्यू में अध्ययनरत रहते हुए कविता राजपूत ने मधुमक्खी पालन कर बड़ी व्यवसायी बन गई है। इस कार्यक्रम की संयोजक ख्याति धुर्वे ने बताया कि इस मंच विद्यार्थियों के अनुभव को साझा करने का है। प्रत्येक संस्थान में यह प्रयास किया जाना चाहिए विद्यार्थी स्वरोजगार से जुडकर आत्मनिर्भर बने।

यह रहे मौजूद
इस ऑनलाइन वर्कशाप में डाॅ. किरण पगारे, डाॅ. वर्षा चौधरी, डाॅ. भारती दुबे, डाॅ. पी.आर. मानकर, डाॅ. अमिता जोशी, डाॅ. श्रीकान्त दुबे, डाॅ. पुष्पा दुबे, डाॅ. श्रुति गोखले, कैलाश डोंगरे, अजय तिवारी, डाॅ. दशरथ मीना, डाॅ. कीर्ति दीक्षित, डाॅ. नीतु पवांर, शीतल मेहरा, किरण विश्वकर्मा एवं महाविद्यालय परिवार उपस्थित रहा।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: