दूसरे दौर का टीकाकरण प्रारंभ, पहले दौर में 45 फीसद ने ली रुचि

दूसरे दौर का टीकाकरण प्रारंभ, पहले दौर में 45 फीसद ने ली रुचि

इटारसी। डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी शासकीय अस्पताल (Dr. Shyama Prasad Mukherjee Government Hospital)में कोविड-19 वैक्सीन (Kovid-19 Vaccine)का दूसरा दौर प्रारंभ हो गया है। पहले दौर के टीकाकरण में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी-कर्मचारी और नगर पालिका के अधिकारी-कर्मचारियों ने अरुचि दिखायी जिससे लक्ष्य का केवल 45 फीसद ही टीकाकरण हो सका। अब दूसरा दौर प्रारंभ हो चुका है, इसमें केवल उन्हीं का टीकाकरण होगा, जिसको पहले दौर का टीका लगा है।
कोविड-19 टीकाकरण के दूसरे दौर में अधीक्षक डॉ.एके शिवानी (Dr. AK Shivani)और चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉ.आरके चौधरी (Dr. RK Chaudhary)ने टीका लगवाकर शुरुआत की। डॉ. शिवानी ने बताया कि पहले दौर में करीब 3000 टीके लगाने का लक्ष्य था, जिसमें करीब 45 प्रतिशत लोगों ने ही टीका लगवाया। स्वास्थ्य विभाग से ही ज्यादातर लोगों ने टीका नहीं लगवाया। माना जा रहा है कि डाक्टर्स (Doctors)और अन्य स्वास्थ्य कर्मी टीका से संतुष्ट नहीं हैं।

पुलिस विभाग जागरुक

कोविड-19 टीकाकरण के लिए सबसे ज्यादा जागरुक पुलिस महकमा (Police Department)रहा है। विभाग के करीब 80 फीसद लोगों ने अस्पताल पहुंचकर कोविड-19 का टीका लगवा लिया है। स्वास्थ्य विभाग और नगर पालिका से अधिकारी-कर्मचारी टीकाकरण कराने नहीं पहुंचे। नगर पालिका से तो महज 30 फीसद लोगों ने ही टीका लगवाया है।

पहले दौर का खत्म

पहले दौर का टीकाकरण खत्म हो गया है, अब टीकाकरण का दूसरा दौर प्रारंभ हो गया है। जिन लोगों ने पहले दौर में मैसेज (Message) के बावजूद टीका नहीं लगवाया है, उनको अब दूसरे दौर में पहले दौर का टीका नहीं लगेगा। जब दूसरे दौर का टीकाकरण कार्य समाप्त हो जाएगा तभी संबंधित के चाहने पर पहले दौर का कोविड टीका लगाया जाएगा।

पंजाब में निकले आदेश

बताया जाता है कि पंजाब (Punjab)सरकार ने एक आदेश निकालकर उन लोगों को चेताया है, जो टीकाकरण नहीं करा रहे हैं। आदेश में स्पष्ट किया गया है कि जो लोग टीकाकरण कराने में रुचि नहीं ले रहे हैं, उनको कोराना वायरस (virus)का संक्रमण होता है तो सरकार उनका मुफ्त में उपचार नहीं कराएगी, ऐसे लोगों को स्वयं खर्च पर इलाज कराना होगा।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW