चुनावी चौपाल : मिलन तो हुआ, चेहरा नहीं बिठा पा रहा था तालमेल

चुनावी चौपाल : मिलन तो हुआ, चेहरा नहीं बिठा पा रहा था तालमेल

नगर पालिका चुनाव, इटारसी में नाम निर्देशन पत्र दाखिल करने के अंतिम दिन आज सबसे अधिक चर्चित रहे भाजपा के दो नेताओं ने नामांकन पत्र दाखिल किये। आज जो तीन नामांकन दाखिल हुए हैं, उनमें से दो नाम भाजपा के नगर पालिका अध्यक्ष के तौर पर चर्चा में रहे हैं। नगर का वार्ड नंबर 15 सबसे अधिक चर्चित रहा है। यहां से टिकट पाने दो नेता विधायक प्रतिनिधि जगदीश मालवीय और पूर्व विधायक प्रतिनिधि तथा वर्तमान में भाजपा के जिला उपाध्यक्ष कल्पेश अग्रवाल के नाम पर लंबी चर्चा थी। दोनों ही वार्ड 15 से दावा कर रहे थे। नाम वापसी के अंतिम दिन देर शाम को भाजपा ने रुके वार्डों में नाम घोषित किये और वार्ड 15 से कल्पेश अग्रवाल तथा 16 से जगदीश मालवीय को टिकट मिला।
खास बात यह रही कि जो पिक्चर रात में नाम घोषित होने के बाद पूरी होना माना जा रहा था, आज अचानक हमेशा मुखर रहने वाले यज्ञदत्त गौर लालू के भी भाजपा की ओर से वार्ड 15 से ही नामांकन दाखिल करने से लगा कि पिक्चर अभी बाकी है, उनका नाम वार्ड 11 से दावेदारी में लिया जा रहा था, आज उन्होंने 11 से चार कदम आगे बढ़कर 15 से नामांकन दाखिल कर दिया। जब तक नाम वापसी की प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती, क्या दृश्य चलचित्र की तरह बदलते रहेंगे? सवाल चर्चाओं में आ गया। हालांकि यज्ञदत्त लालू गौर का कहना है कि वे पार्टी के सिपाही हैं, और पार्टी की ओर से ही नामांकन दाखिल किया है। उनका कहना है कि संभावना हमेशा जिंदा रहती है। पार्टी ने वार्ड 15 से नाम घोषित किये, यह केवल सोशल मीडिया से पता चला, किसी बड़े नेता से नहीं। जहां तक नाम वापसी की बात है, जो आदेश पार्टी, सम्माननीय नेता करेंगे, वह मान्य है। लेकिन, संभावना जिंदा रहती है तो ऐसे निर्णय हो जाते हैं।

इन बड़े नामों ने जमा किये नामांकन

आज भारतीय जनता पार्टी के तीन बड़े नाम कल्पेश अग्रवाल, जगदीश मालवीय और पंकज चौरे ने नामांकन दाखिल किये। इसके अलावा भी अन्य वार्डों से नामांकन दाखिल हुए हैं, जिनमें पार्टी की परिषद में भी गलत लगने वाले निर्णयों पर मुखरता से विरोध करने वाले यज्ञदत्त गौर लालू का नामांकन दाखिल करना शहर में खासा चर्चा का विषय रहा। चर्चा यह भी रही कि पार्टी का अधिकृत प्रत्याशी घोषित होने के बावजूद लालू गौर का नामांकन जमा करना ‘आस ‘ है या ‘बगावत ‘? हालांकि श्री गौर ने बगावत जैसी बात को दरकिनार कर दिया है और आला नेताओं के कहने पर नाम वापस लेने से भी इनकार नहीं किया है। हालांकि जहां लंबी खींचतान चली वहीं सीट क्यों? यह सवाल अब भी चर्चाओं में है।

गले मिले, चेहरों ने गवाही दी

आज टिकट के लिए जिद की हद तक अड़ जाने वाले एक ही पार्टी के दो नेता जगदीश मालवीय और कल्पेश अग्रवाल निर्वाचन कार्यालय में नामांकन जमा करने पहुंचे तो एकदूसरे के गले भी मिले। वे कितनी आत्मीयता से मिले यह उनके चेहरे से साफ झलक रहा था। कल तक टिकट पाने के लिए दोनों की जिद ने संबंधों के बीच जो एक महीन सी लकीर खींच दी थी, वह आज चेहरों की गवाही ने उसके स्पष्ट दीदार करा दिये। राजनीति है, साहब। एक ही पार्टी में हैं और सामना होगा तो मिलने और खुश होने का अभिनय तो करना ही होता है। तहसील दफ्तर में वे सभी आपस में मिले, जो टिकट के लिए एकदूसरे के विरोध में खड़े थे।

कांग्रेस की सूची रात 8 तक

कांग्रेस ने अब तक अपने प्रत्याशियों की सूची घोषित नहीं की है। यहां भी वार्ड क्रमांक 15 से चुनाव लडऩे वालों की सबसे अधिक संख्या है। दरअसल, इस वार्ड को नगर पालिका अध्यक्ष देने वाला वार्ड माना जा रहा है। यहां से कांग्रेस के नगर अध्यक्ष पंकज राठौर, वरिष्ठ नेता ओम सेन, प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता राजकुमार केलू उपाध्याय के भाई पीयूष उपाध्याय और वरिष्ठ नेता कन्हैया गोस्वामी ने नामांकन जमा किये हैं। न सिर्फ भारतीय जनता पार्टी बल्कि कांग्रेस के लिए भी यह वार्ड प्रतिष्ठा का प्रश्र बन गया है। रात 8 बजे तक कांग्रेस की सूची आने की उम्मीद है, सबकी नजरें इसी वार्ड पर लगी हैं।

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!