ड्रायवरों की हड़ताल का कृषि और फल-सब्जी मंडी में भी असर

ड्रायवरों की हड़ताल का कृषि और फल-सब्जी मंडी में भी असर

इटारसी। इन दिनों चल रही ड्रायवरों की हड़ताल का कृषि उपज मंडी (Agricultural produce market) सहित सब्जी-फल मंडी (vegetable-fruit market) पर असर पड़ रहा है। कृषि उपज मंडी में व्यापारियों ने खरीद बंद करने का पत्र मंडी प्रबंधन को दिया है तो सब्जी और फल मंडी में रोज जितना माल आता है, उसका केवल 40 फीसद ही पहुंच पा रहा है। नतीजे में सब्जी और फल के दाम लगभग दोगुने हो गये हैं।

मंडी में नहीं होगी नीलामी

दि इटारसी ग्रेन एंड सीड्स मर्चेंट्स एसोसिएशन (The Itarsi Grain and Seeds Merchants Association) ने मंडी के प्रभारी सचिव को पत्र देकर उपज का परिवहन न होने के कारण क्रय-विक्रय बंद करने का निवेदन किया है। व्यापारियों ने परिवहन न होने से खरीद करने में असमर्थता जतायी है। व्यापारियों ने कहा कि परिवहन व्यवस्था सुचारू होने तक नीलामी कार्य बंद रखा जाए।

सब्जी-फल के दाम बढ़े

थोक सब्जी विक्रेता सोनू बिन्द्रा (Sonu Bindra) ने कहा है कि ड्रायवरों की हड़ताल का सब्जी और फल बाजार में भी व्यापक असर पड़ा है। यहां रोज के अपेक्षा केवल 40 फीसद ही माल आ पा रहा है। परिवहन व्यवस्था नहीं होने से किसान खेतों से ही सब्जी नहीं निकाल रहा है। रेट भी दोगुना से ज्यादा हो गये हैं। फलों के भाव का भी यही आलम है। वाहनों को रोकने के डर से ड्रायवर गाड़ी ही नहीं चला रहे हैं। यदि दो दिन कहीं गाड़ी रुक गयी तो माल सड़ ही जाएगा। शनिवार को मटर यहां 22 रुपए किलो थी तो आज इसके राम 40 रुपए रहे, गांभी 20 रुपए से 40 रुपए बिकी। आलू भी 10 रुपए किलो से 22 रुपए किलो में बिका है।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

error: Content is protected !!