Popular Tourist Places of Lakshadweep : जीवन के बेहद खूबसूरत पल गुजारना चाहते हैं तो जरूर जाइए लक्षद्वीप

Popular Tourist Places of Lakshadweep : जीवन के बेहद खूबसूरत पल गुजारना चाहते हैं तो जरूर जाइए लक्षद्वीप

Popular tourist places of Lakshadweep : लक्षद्वीप मतलब लाखों द्वीप। नाम में ही छिपी है, इसकी पहचान। यहां जाने के लिए किसी पासपोर्ट या वीजा की जरूरत नहीं। ना ही मालद्वीप की तरह भारतीय होने पर किसी भेदभाव का सामना करना पड़ता। यहां के जनजातीय लोग बेहद ही अच्छे व्यवहार वाले होते हैं, और यहां आना-जाना, रहना बेहद ही सस्ता होता है।

गरीब से गरीब आदमी भी सुकून के कुछ पल यहां गुजर सकता है।  देश की शानदार जगह लक्षद्वीप एक नहीं बल्कि कई छोटे-छोटे दीपों का समूह है, जो एक दूसरे के पास-पास हैं।

नारियल के घने जंगल यहां की सुंदरता को और बढ़ाते हैं। केरल के समीप 36 छोटे-छोटे द्वीपों से बना भारत का सबसे छोटा केंद्र शासित प्रदेश है, लक्षद्वीप। यहां की आबादी लगभग 65000 है। लक्षद्वीप के 36 द्वीपों में से केवल सात द्वीप आबाद हैं। कावारती यहां की राजधानी है, जो भारत के सबसे खूबसूरत स्थान में से एक है। सफेद चमकीले बालू वाले द्वीप तथा शांत वातावरण लोगों को काफी पसंद आते हैं।

प्रकृति की गोद में बसा एक बेहद खूबसूरत आइलैंड है लक्षद्वीप। और यहां आकर लोग छुट्टियों का सही आनंद लेते हैं। जो लोग समुद्र तटों, पानी के खेलों और फूड के शौकीन हैं उनके लिए तो यह जगह किसी स्वर्ग से काम नहीं। यहां पानी इतना साफ होता है कि आप आसानी से पानी की सतह को देख सकते हैं।  

समुद्री जल में तैरती अनोखी रंग बिरंगी मछलियां यहां की सुंदरता में चार चांद लगाती हैं। सुंदर नजारों के साथ-साथ आधुनिक बुनियादी सुविधाएं भी यहां उपलब्ध हैं। दुनिया भर के सैलानियों को बुलाता है लक्षद्वीप। यहां घूमने के लिए भारतीय और विदेशी पर्यटकों को कोच्चि में अनुमति लेनी होती है।

विदेशियों को यहां केवल तीन द्वीप पर ही जाने की परमिशन है। अगर आप भारतीय हैं तो आपको सभी जगह जाने की परमिशन मिल सकती है। यहां कई शानदार होटल और रिसॉर्ट मौजूद हैं। लक्षद्वीप (Lakshadweep) के द्वारा भले ही छोटे हो लेकिन हैं बेहद खूबसूरत। आपको भले ही तैरना ना आता हो लेकिन आप यहां आसानी से समुद्र के भीतर की दुनिया को देख सकते हैं।  

स्कूबा डाइविंग, मछली पकडऩा जैसे शौक पूरे कर सकते हैं। लक्षद्वीप के हर एक दीप से सूर्यास्त और सूर्योदय का नजारा बेहद दिलकश होता है। लक्ष्यद्वीप की साक्षरता दर 92त्न है और यहां की मुख्य भाषा मलयालम है। यहां के लोग साधारण और सरल जीवन जीते हैं।

नारियल की खेती और मछली पकड़ता यहां की अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार था, लेकिन अब पर्यटन भी इसकी अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान कर रहा है।    

भारत के दक्षिण-पश्चिमी तट से 200 से 440 किमी (120 से 270 मील) दूर अरब सागर में स्थित एक द्वीपसमूह है। लक्षद्वीप (Lakshadweep) का कुल सतही क्षेत्रफल सिर्फ 32 वर्ग किमी (12 वर्ग मील) है, जबकि अनूप क्षेत्र 4,200 वर्ग किमी (1,600 वर्ग मील), प्रादेशिक जल क्षेत्र 20,000 वर्ग किमी (7,700 वर्ग मील) और विशेष आर्थिक क्षेत्र 400,000 वर्ग किमी (150,000 वर्ग मील) में फैला है।

यात्रा संस्मरण… मध्‍यप्रदेश का महेश्‍वर है शिव का घर

इस क्षेत्र के कुल 10 उपखण्ड मिलकर एक भारतीय जनपद की रचना करते हैं। कवरत्ती लक्षद्वीप (Lakshadweep) की राजधानी है, और यह द्वीपसमूह केरल उच्च न्यायालय के अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत आता है।    

2011 की भारतीय जनगणना के अनुसार, इस केन्द्र-शासित प्रदेश की कुल जनसंख्या 64,473 थी। अधिकांश आबादी स्थानीय मुस्लिमों की है और उनमें से भी ज्यादातर सुन्नी सम्प्रदाय के शाफी सम्प्रदाय के हैं। ये द्वीप जातीय रूप से निकटतम भारतीय राज्य केरल के मलयाली लोगों के समान हैं।

लक्षद्वीप की अधिकांश आबादी मलयालम बोलती है जबकि मिनिकॉय द्वीप पर माही या माह्ल भाषा सबसे अधिक बोली जाती है। अगत्ती द्वीप पर एक हवाई अड्डा मौजूद है। लोगों का मुख्य व्यवसाय मछली पकडऩा और नारियल की खेती है, साथ ही टूना मछली का निर्यात भी किया जाता है।

1 नवम्बर 1956 को, भारतीय राज्यों के पुनर्गठन के दौरान, प्रशासनिक उद्देश्यों के लिए लक्षद्वीप को मद्रास से अलग कर एक केन्द्र-शासित प्रदेश के रूप में गठित किया गया। 1 नवंबर 1973 के नया नाम अपनाने से पहले इस क्षेत्र को लक्कादीव-मिनिकॉय-अमिनीदिवि के नाम से जाना जाता था। मध्य पूर्व के लिए भारत की महत्वपूर्ण जहाज मार्गों की सुरक्षा के लिए, और सुरक्षा कारणों में द्वीपों की बढ़ती प्रासंगिकता को देखते हुए, एक भारतीय नौसेना आधार, आईएनएस द्वापरक्ष, को कवरत्ती द्वीप पर कमीशन किया गया।  

अगाती : लक्षद्वीप (Lakshadweep) का प्रवेश द्वार, अगाती एक आकर्षक द्वीप है जो अपनी प्राकृतिक सुंदरता और मित्रतापूर्ण स्थानीय लोगों के लिए जाना जाता है। यहां आप सफेद रेतीले समुद्र तटों पर टहल सकते हैं, नीला पानी में तैर सकते हैं, या नाव की सवारी करके डॉल्फिन को देख सकते हैं।

मिनीकॉय : लक्षद्वीप (Lakshadweep) का दूसरा सबसे बड़ा द्वीप, मिनिकॉय एक लक्जऱी डेस्टिनेशन है जो अपने शानदार रिसॉट्र्स और प्राचीन प्रवाल भित्तियों के लिए प्रसिद्ध है। यहां आप स्कूबा डाइविंग, स्नोर्कलिंग और ग्लास-बॉटम बोट राइड का आनंद ले सकते हैं।

बांगरम : लक्षद्वीप (Lakshadweep) का एक और आकर्षक द्वीप, बांगरम अपने निर्मल पानी, सफेद रेत और समृद्ध समुद्री जीवन के लिए प्रसिद्ध है। यहां आप डॉल्फिन के साथ तैर सकते हैं, समुद्री कछुओं को देख सकते हैं, या जंगल में लंबी पैदल यात्रा पर जा सकते हैं।

कवरत्ती : लक्षद्वीप की राजधानी, कवरत्ती एक व्यस्त द्वीप है जो अपने सुंदर लैगून, ऐतिहासिक लाइटहाउस और जीवंत बाजारों के लिए जाना जाता है। यहां आप लैगून में बोटिंग कर सकते हैं, लाइटहाउस से सूर्यास्त का नजारा देख सकते हैं, या स्थानीय बाजारों में स्मृति चिन्ह खरीद सकते हैं।

लक्षद्वीप (Lakshadweep) जाने के लिए आपको परमिट की आवश्यकता होती है, जिसे आप ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। यदि आप भारतीय हैं तो हमारा सुझाव है कि आप एक बार हिंदुस्तान के इस स्वर्ग में समय बिताने जरूर जाएंगे और वहां से यादगार पल अपनी जिंदगी में शामिल कर कर लौटेंगे। 

CATEGORIES
Share This
error: Content is protected !!