Breaking News

एसडीएम और अधिवक्ता संघ के बीच गतिरोध के बीच सुलह की कोशिशें तेज

एसडीएम और अधिवक्ता संघ के बीच गतिरोध के बीच सुलह की कोशिशें तेज

इटारसी। नगर अधिवक्ता संघ और एसडीएम हिमांशुचंद्र के मध्य चल रहे गतिरोध के बीच सुलह के प्रयास भी शुरु हो गए हैं। पक्षकारों की परेशानी को देखते हुए आज मप्र विधानसभा के अध्यक्ष डॉ.सीतासरन शर्मा ने अधिवक्ता संघ से बातचीत कर पूरा मामला समझा। उन्होंने मामले में कलेक्टर, कमिश्रर और जरूरत पडऩे पर मुख्य सचिव से भी बातचीत करने का आश्वासन दिया। आज गतिरोध को दूर कराने अतिरिक्त कलेक्टर मनोज सरियाम भी आज इटारसी पहुंचे। उन्होंने एसडीएम हिमांशुचंद्र को दफ्तर में बुलाया लेकिन वे कृषि उपज मंडी में थे और बातचीत करने नहीं पहुंचे। इस तरह से आज सुलह के प्रयासों को सफलता नहीं मिली है।
इधर वकीलों ने एसडीएम कोर्ट का तीसरे दिन भी बहिष्कार कर संघ के अध्यक्ष रघुवंश पांडेय और सचिव पारस जैन के नेतृत्व में एसडीएम कार्यालय के सामने जाकर जमकर नारेबाजी की। संघ का दावा है कि उनके आंदोलन को जिला अधिवक्ता संघ, सोहागपुर, सिवनी मालवा, पिपरिया संघ का भी समर्थन है। अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष और सचिव ने बताया कि आज विधानसभा अध्यक्ष डॉ. शर्मा और एडीएम श्री सरियाम गतिरोध खत्म कराने की कोशिश के तहत आए थे और एसडीएम को बुलाया भी था लेकिन, एसडीएम श्री चंद्र मंडी से नहीं आए।
सूत्र बताते हैं कि जिला प्रशासन की ओर से बंद कमरे में बैठकर समस्या का उचित समाधान निकालने का प्रस्ताव अधिवक्ता संघ के पास आया था। अधिवक्ता संघ ने इस प्रस्ताव को सिरे से खारिज कर दिया। इस मामले में अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष रघुवंश पांडेय ने माना कि बंद कमरे का प्रस्ताव आया था। उन्होंने कहा कि संघ के सचिव पारस जैन के पास ऐसा प्रस्ताव आया था। लेकिन, हम ऐसे किसी प्रस्ताव को मानने के पक्ष में नहीं हैं। हमारा मानना है कि बार एसोसिएशन के प्रत्येक सदस्य के सामने ही सारी बातचीत होंगी, या तो बार रूम में या रेस्ट हाउस में, बैठकर समाधान निकालें।

इनका कहना है…!

पक्षकारों को बड़ा नुकसान हो रहा है, हमने अधिवक्ता संघ से बातचीत की है। कलेक्टर, कमिश्रर और जरूरत पड़ी तो मुख्य सचिव से भी बातचीत करेेंगे। मामले का जल्द से जल्द समाधान निकलना चाहिए।
डॉ.सीतासरन शर्मा, विस अध्यक्ष

जिला प्रशासन और विधानसभा अध्यक्ष गतिरोध समाप्त करने के प्रयास कर रहे हैं। लेकिन, एसडीएम के रवैए से लगता है कि वे समझौता के लिए रुचि नहीं ले रहे हैं। आज टेलीफोन से उनको बातचीत करने बुलाया था, लेकिन वे नहीं आए।
रघुवंश पांडेय, अध्यक्ष अधिवक्ता संघ

हमारे पास जिला प्रशासन की ओर से गतिरोध समाप्त करने का प्रस्ताव आया था। एसडीएम आए थे उन्होंने एसडीएम को फोन भी किया। वे मंडी में थे, बुलाने पर भी नहीं आए। जहां तक बंद कमरे में बात करने का सवाल है तो यह नहीं होगा।
पारस जैन, सचिव अधिवक्ता संघ

error: Content is protected !!