महिला के पॉजिटिव आते उठा प्रश्न, यहां क्यों नहीं होती जांच

महिला के पॉजिटिव आते उठा प्रश्न, यहां क्यों नहीं होती जांच

इटारसी। जमानी के पास ग्राम मलोथर में एक महिला कोरोना पॉजिटिव मिली है। अभी महिला का उपचार हमीदिया अस्पताल भोपाल में चल रहा है। डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी शासकीय चिकित्सालय के अधीक्षक डॉ. एके शिवानी ने बताया कि महिला को करीब चार-पांच दिन इटारसी में भी भर्ती रखा गया था, उसे सांस और ब्लड प्रेशर की शिकायत थी।
लगातार कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ रही है। आज मलोथर निवासी महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से इटारसी के 33 और मलोथर की एक मिलाकर जिले में कोरोना पॉजिटिव की संख्या 34 हो गयी है। डॉ. शिवानी ने बताया कि महिला का उपचार भोपाल के ही हमीदिया अस्पताल में चल रहा है। सूचना के बाद स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन की टीम उसके गांव मलोथर पहुंची और महिला का मकान पूरी तरह से सेनेटाइज किया है। महिला के परिवार से गांव से तीन सेंपल लिये हैं, जबकि महिला सहित दो लोग भोपाल में ही हैं। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने आज एक एएसआई सहित 13 लोगों के सेंपल लिये हैं, जिसमें महिला के संपर्क में उपचार के दौरान आया सिविल अस्पताल का स्टाफ भी शामिल है।

यहां क्यों नहीं होती जांच
ग्राम मलोथर की 50 वर्षीय महिला भी इटारसी अस्पताल में पांच दिन भर्ती रही है। उसे सांस और ब्लड प्रेशर की शिकायत थी। ठीक उसी तरह से जैसे सुदामा नगर की लीलादेवी नागेश पीलिया की शिकायत के लिए भर्ती हुई थी। इन दोनों की यहां कोरोना जांच नहीं की गई। जब दोनों को भोपाल रैफर किया गया और वहां सेंपल लेकर जांच की गई तो रिपोर्ट पॉजिटिव आयी। आखिर इटारसी अस्पताल में सेंपल क्यों नहीं लिये गये, जबकि ऐसा बताया जाता है कि इनको बुखार था। लगातार दो ऐसे मामले सामने आये हैं, जो यहां से रैफर करने के बाद भोपाल में पॉजिटिव निकले हैं। अब यह तलाश मुश्किल हो रही है कि आखिर इनका स्रोत क्या है? कहीं इटारसी अस्पताल में तो ऐसी कोई कमी नहीं है? क्योंकि यदि इटारसी में सेंपल लेकर जांच हो जाती तो पता चल जाता कि महिला गांव से संक्रमित आयी है या फिर इटारसी आने के बाद। महिला को यहां 20 से 25 अप्रैल तक भर्ती रखा, 25 अप्रैल को यहां से रैफर किया और महज दो दिन में भोपाल में उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। जाहिर है, कहीं न कहीं इटारसी अस्पताल की कोई कमजोरी है, जिसका पता लगाया जाना अत्यंत जरूरी है। इस मामले में अस्पताल के अधीक्षक डॉ. एके शिवानी का कहना है कि यहां ऐसे कोई लक्षण ही उनमें नहीं थे कि सेंपल लिये जाते। जहां तक बुखार की बात है तो पीलिया में भी बुखार आता है।
जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार अब तक कुल 421 सेंपल भोपाल भेजे जा चुके हैं और कुल 347 जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई हैं। इनमें से 30 पॉजिटिव और 317 नेगेटिव है। अब तक 19 मरीज पॉजिटिव पाये गये जिन्हें चिरायु अस्पताल भोपाल भेजा गया जिसमें से 8 को डिस्चार्ज करके 14 दिनों के लिए क्वारेंटाइन सेंटर में रखा है। इसके अलावा 11 पॉजिटिव मरीज कोविड केयर सेंटर इटारसी में भर्ती हैं। चार पॉजिटिव अन्य प्रकरण में से 1 मरीज को डिस्चार्ज किया, दो की मृत्यु एम्स भोपाल में हो गयी है। एक मरीज जो ग्राम मलोथर की है, वह हमीदिया अस्पताल भोपाल में भर्ती है। स्वास्थ्य विभाग की टीम डोर-टू-डोर स्क्रीनिंग कर रही है जिसमें होशंगाबाद जिला सहित राज्यों से से आए 50529 व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। आज की स्थिति में 31169 व्यक्तियों को होम क्वोरेन्टाइन किया है।

गांव में जागरुकता अभियान
ग्राम सोनासांवरी में पिछले एक माह से लगातार सरपंच प्रीति पटेल के नेतृत्व में गांव के युवाओं की एक टीम जागरुकता अभियान चला रही है। इस दौरान लोगों को फिजिकल डिस्टेंस के तहत आवश्यक दूरी बनाने तथा मूंह पर मास्क, रूमाल, या देशी गमछा लगाये रखने के लिए मास्क और सेनेटाइजर वितरण किया जाता है, वहीं प्रतिदिन पूरे ग्राम में फेरी लगाकर लोगों को घरों में ही रहने हेतु, समझाने का प्रयास किया जाकर जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है, वहीं जरूरतमंद लोगों की मदद की जा रही है।


आरएसएस ने वितरित किये 16 सौ मास्क
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वारा पूरे देश में सेवा कार्य निरन्तर जारी है। भारत सरकार एवं राज्य सरकार के स्वास्थ मंत्रालय द्वारा मास्क की अनिवार्यता को देखते हुए अभी लगभग 5000 मास्क बांटने का निर्णय किया गया है।
सेवा भारती, विद्या भारती व श्री गुरुद्वारा गुरु सिंघ सभा के सहयोग से प्रतिदिन 200 मास्क तैयार कर बांटने का काम किया जा रहा है। पूर्व में 1600 मास्क वितरण किये जा चुके हैं। मास्क तैयार कराने में राष्ट्रीय सेविका समिति व समाजसेवी, माताओं, भगिनियो का भरपूर सहयोग प्राप्त हो रहा है। पिछले 2 दिनों में मास्क का वितरण पुरानी इटारसी एवं वृद्धाश्रम सहित न्यास क्षेत्र में किया गया जिसमें विद्याभारती के कोषाध्यक्ष विक्रम सोनी, हिन्दू जागरण मंच के प्रांत उपाध्यक्ष दुर्गेश यादव, पार्थ राजपूत मौजूद रहे।


हनुमान चालीसा का किया पाठ
कोरोना के विश्व व्यापी संक्रमण से विश्व को मुक्ति दिलाने के लिए शहर के दुबे परिवार ने हनुमान चालीसा का पाठ का सहारा लिया है। जहां इस रोग के कारण पूरे देश में लॉक डाउन है वहीं होशंगाबाद जिले का इटारसी एकमात्र शहर है जहां संक्रमित लोगों की बड़ी संख्या है। इस बीमारी से अपना ध्यान हटाने और ईश्वर से प्रार्थना करने के लिए शहर के प्रसिद्ध भागवत कथावाचक पंडित देवेन्द्र दुबे अपने पूरे परिवार के साथ ईश्वर की भक्ति में लीन हैं और पूरे परिवार के साथ ईश्वर से नित्य प्रति हनुमान चालीसा का पाठ कर प्रार्थना कर रहे हैं कि हनुमान जी महाराज जल्द से जल्द हमारे शहर इटारसी को इस संकट से मुक्त करें।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: