लगातार नोटिस के बाद नहीं हटे कब्जे, नपा ने तोड़े 13 मकान

लगातार नोटिस के बाद नहीं हटे कब्जे, नपा ने तोड़े 13 मकान

इटारसी। नगर पालिका के अतिक्रमण विरोधी अमले ने आज सब्जी मंडी (Vegetable Market) के पास सोसायटी के सामने वाले मैदान से 13 मकान जेसीबी मशीन (JCB Machine) के माध्यम से जमींदोज कर मैदान बना दिया। इन 13 लोगों को विगत तीन वर्ष से अधिक समय से लगातार कब्जे छोडऩे के नोटिस दिये जा रहे थे। यहां 2018 में आवंटित एएचपी घटक (AHP Component) के प्रधानमंत्री आवास योजना (Pradhan Mantri Awas Yojana) के मकान बनाये जाएंगे।

आज सुबह नगर पालिका का अतिक्रमण विरोधी अमला जेसीबी लेकर मौके पर पहुंचा। छिटपुट विरोध के बीच जब लोगों ने देखा कि बात नहीं बनेगी तो सामान बाहर करने का समय मांगा। तब तक जेसीबी ने उन कब्जों को ढहाया जो खाली थे और केवल मकान बनाकर कब्जा करके रखा था। यहां रह रहे लोगों ने दोपहर तक अपने मकानों से सारा सामान बाहर कर दिया जो जेसीबी ने सारे मकानों पर पंजा चलाकर ढहा दिया।

एएचपी घटक में मिलेंगे मकान

जिन 13 लोगों को आज यहां से हटाया गया है, उनको यहां बनने वाले एएचपी घटक के प्रधानमंत्री आवास में मकान दिये जाएंगे। नगर पालिका से मिली जानकारी के अनुसार इनमें से करीब आधे लोगों ने पूर्व से ही रसीदें कटा ली हैं, शेष से यह प्रक्रिया पूरी करने को कहा जा रहा है, ताकि सभी को एकसाथ मकान मिल सकें।

96 मकान बनना प्रस्तावित

पिछले दिनों न्यास कालोनी में झुग्गी बस्ती के पास तैयार हुए 24 में से 16 मकान हितग्राहियों को दिये जा चुके हैं। यहां एएचपी घटक के कुल 92 मकान बनना है। इसी तरह से अब सब्जी मंडी के पास 96 मकान तैयार होने हैं। इनमें से 13 उनको मिलेंगे जिन्हें आज यहां से हटाया गया है। शेष अन्य हितग्राहियों को दिये जाएंगे।

लैप्स हो जाता पैसा

सूत्रों के अनुसार 2018 में एएचपी घटक के लिए आवंटन मिला था। लगातार नोटिस देने के बावजूद यहां रहने वाले मकान खाली नहीं कर रहे थे। हालात ये बन गये थे, थोड़ी देर होती तो स्वीकृत लगभग साढ़े करोड़ रुपए की राशि लेप्स हो सकती थी। इस योजना पर काम करना मुश्किल हो जाता। इसलिए नपा को सख्ती दिखानी पड़ी।

इनका कहना है…

इस स्थान पर प्रधानमंत्री आवास योजना के एएचपी घटक के 96 आवास मकान बनना है। यहां रह रहे लोगों को अपने कब्जे छोडऩे के लिए विगत तीन वर्ष से अधिक समय से नोटिस दिया जा रहा था। आज इनको हटाया गया है, ताकि काम प्रारंभ कराया जा सके।

रितु मेहरा, सीएमओ

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

error: Content is protected !!