टनल में फंसे मजदूरों के लिए प्रार्थना की, खबर आयी तो खुशी का ठिकाना नहीं रहा

टनल में फंसे मजदूरों के लिए प्रार्थना की, खबर आयी तो खुशी का ठिकाना नहीं रहा

  • – समेरिटंस स्कूल के 3354 विद्यार्थियों ने जोड़ की स्तुति

नर्मदापुरम। उत्तराखंड (Uttarakhand) की टनल (Tunnel) में पिछले 17 दिन फंसे रहे मजदूरों के लिए समेरिटंस स्कूल (Samaritans School) के 3354 विद्यार्थियों ने प्रार्थना की और जब मजदूरों के सकुशल बाहर निकलने की खबरें मिलना शुरु हुई तो विद्यार्थियों और स्कूल स्टाफ की खुशी का ठिकाना न रहा। सभी ने ईश्वर को धन्यवाद दिया।

समेरिटंस स्कूल सांदीपनी परिसर (Sandipani Complex) के 3354 बच्चों ने एक साथ सामूहिक रूप से हाथ जोड़कर गजेंद्र मोक्ष स्त्रोत (Gajendra Moksha Strot) का पाठ किया। गजेंद्र मोक्ष स्त्रोत पाठ के पूर्व संस्था के डायरेक्टर डॉ आशुतोष शर्मा (Dr. Ashutosh Sharma) और प्राचार्य श्रीमती प्रेरणा रावत (Mrs. Prerna Rawat) ने भगवान श्रीहरि (Lord Shrihari) और हनुमानजी (Hanumanji) के चित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वलित किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि टनल से मजदूरों का बाहर लाने के प्रयासों में आए दिन कोई न कोई परेशानी आ रही है। इन परेशानियों को दूर करने और उनकी कुशलता के लिए यह पाठ हमें पूरे आर्तभाव से करना है।

उन्होंने कहा कि गजेंद्र मोक्ष स्त्रोत सुनकर भगवान बहुत ही शीघ्र द्रवित होते हैं और भक्तों पर कृपा करते हैं। इस स्तुति को सुनकर भगवान सबकुछ भूलकर भक्त की सहायता के लिए दौड़ पड़ते हैं। गजेंद्र मोक्ष स्त्रोत का पाठ प्रमोद शर्मा द्वारा कराया गया। स्त्रोत का समापन, उधर आई अच्छी खबर इसे सुखद संयोग कहा जाए या फिर गजेंद्र मोक्ष स्त्रोत का प्रभाव कि इधर दोपहर 1 बजकर 35 मिनट पर स्कूल में गजेंद्र मोक्ष स्त्रोत के पाठ का समापन हुआ, उधर टनल से यह अच्छी खबर आई कि मजदूरों तक पहुंचने में आ रही सभी दिक्कतें समाप्त हो चुकी हैं। मजदूरों के बाहर निकालने का काम चंद घंटे बाद शुरू हो सकता है। इस खबर से विद्यालय में भी प्रसन्नता की लहर फैल गई।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

error: Content is protected !!