गर्मी झुलसा रही है और बिजली रुला रही है, धैर्य दे रहा जवाब

गर्मी झुलसा रही है और बिजली रुला रही है, धैर्य दे रहा जवाब

इटारसी। इन दिनों संपूर्ण शहर में विद्युत व्यवस्था की हालत खराब है। बिजली विभाग के अधिकारियों से व्यवस्था संभल ही नहीं रही है। नाला मोहल्ला, गांधीनगर, लाइन एरिया, सूरजगंज, सोनासांवरी नाका, कावेरी एस्टेट, न्यास कालोनी, बाजार क्षेत्र, पुरानी इटारसी सहित एक दर्जन से अधिक ऐसे क्षेत्र हैं जहां अब लोग कहने लगे हैं कि बिजली जाने की बात करना बेमानी है, आने की खुशी थोड़ी देर मना लेते हैं, क्योंकि लगातार ट्रिपिंग (Tripping) , केबल जलना (Cable burning) , ट्रांसफार्मर (Transformer) खराब होना जैसी समस्याएं आम हो चली हैं।

आज कल सोशल मीडिया पर सिर्फ और सिर्फ बिजली ‘आ गई’ और ‘चली गई’ ही ट्रेंड हो रहा है। हर तरफ लोग परेशान हैं, न जिम्मेदार अफसर ध्यान दे रहे हैं और ना ही बिजली विभाग का कोई अधिकारी इसमें रुचि ले रहा है। अप्रैल माह में कांग्रेस (Congress) ने इसके लिए बिजली दफ्तर के सामने प्रदर्शन भी किया था, बावजूद इसके इस समस्या का समाधान नहीं निकल पा रहा है। गर्मी के दिनों में इस तरह की समस्याएं होना आम है, लेकिन इस वर्ष यह पिछले वर्षों की तुलना में बहुत अधिक ही हो रही है।

कावेरी एस्टेट के लोग मिलेंगे विधायक से

कल, शुक्रवार को सुबह 11 बजे कावेरी एस्टेट (Kaveri Estate) के गेट पर एकत्र होकर कावेरी एस्टेट कालोनी के निवासी विधायक डॉ.सीतासरन शर्मा (Dr.Sitasaran Sharma) से बिजली समस्या को लेकर मिलने जाएंगे। यहां के निवासी और सामाजिक कार्यकर्ता मनीष ठाकुर (Manish Thakur) ने बताया कि हम विधायक से मिलकर उनको समस्याएं बताएंगे। यहां दो ट्रांसफार्मर खराब होने से सारा लोड एक ही ट्रांसफार्म पर डाल दिया है, जिससे बार-बार लाइन जा रही है। आज कावेरी के निवासियों ने मीटिंग की है और विधायक डॉ. शर्मा के अलावा बिजली विभाग के अधिकारियों से भी उनकी मिलने की योजना है।

प्रभारी मंत्री से मिलेंगे

इधर युवा भाजपा नेता अभिनव शर्मा ने बिजली समस्या से परेशान होकर कहा है कि जल्द ही इस मामले को लेकर प्रभारी मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह से मुलाकात करके उनको इस समस्या से अवगत कराया जाएगा। उन्होंने टेलीफोन पर इस समस्या को लेकर प्रभारी मंत्री से चर्चा की है, जल्द ही रूबरू मिलकर भी समस्या बताएंगे।

सोशल मीडिया से….

  • नगर कांग्रेस अध्यक्ष मयूर जैसवाल का विपक्षी दल की चुप्पी के सवाल पर कहना है कि विपक्ष तो सवाल उठा रहा है और उठाता भी रहता है, लेकिन सत्तापक्ष के हाथ में सिस्टम है, उनको यह समस्या दिखाई या महससू नहीं हो रही है क्या? धमेन्द्र रणसूरमा ने कहा, लालटेन का युग कहने वाले अब खुद लालटेन के युग में जी रहे हैं। पत्रकार इंद्रपाल का कहना है कि मालवीयगंज की लाइट हर रोज रात 11 बजे के बाद गुल हो जाती है और ऐसा रात में दो से तीन बार होता है। पूर्व पार्षद नीलेश मालोनिया कहते हैं कि विरोध ही इसका हल है क्या? जिम्मेदारों को भी समस्या दिखाई देना चाहिए, उनकी भी कुछ जिम्मेदारी बनती है।
  • वरिष्ठ पत्रकार अनिल मिहानी का कहना है कि जिस तरह से बार-बार लाइट जा रही है, वैसे ही कांग्रेस को बार-बार प्रदर्शन करना चाहिए। भाजपायी इसका विरोध इसलिए नहीं कर रहे, क्योंकि सरकार उनकी है, वे बिना बिजली के रह रहे हैं, लेकिन विरोध करने की हिम्मत नहीं जुटा रहे। उन्होंने सुझाव दिया कि दलगत राजनीति से परे दोनों दलों को बिजली अधिकारियों के साथ बैठकर हल निकालना चाहिए।

इनका कहना है…

  • गर्मी के कारण लोड बढ़ता है तो ट्रांसफार्मर खराब होने, केबल जलने, बाक्स जलने सहित ट्रिपिंग की समस्याएं आती हैं। हम भी आईडेंटीफाई होने पर तत्काल उसका सुधार कार्य करते हैं। दिन और रात लगातार सुधार कार्य चलता है, ट्रिपिंग के बाद लाइन चेक होती हैं, बार-बार लाइट जाने से हम भी तो परेशान होते हैं, क्योंकि लगातार फाल्ट ढूंढऩे और सुधार करने में घंटों तक लगे रहना पड़ता है। गर्मी में समस्या आ रही है तो हम उसका सुधार भी कर रहे हैं, उपभोक्ताओं को भी धैर्य रखना चाहिए।
    • अखिलेश कनोजे, सहायक यंत्री शहर
CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

error: Content is protected !!