आपके नियमित आचरण का प्रभाव गर्भ में पल रहे बच्चे पर पड़ता है : मुनिश्री निर्णयसागर

आपके नियमित आचरण का प्रभाव गर्भ में पल रहे बच्चे पर पड़ता है : मुनिश्री निर्णयसागर

इटारसी। आपके नियमित आचरण, संस्कारों का खुशनुमा मानस का प्रभाव आपके गर्भ में पल रहे बच्चे पर पड़ता है। भगवान के गर्भ में आते ही ऐसे-ऐसे प्रकृति में बदलाव आते हैं, भगवान की माता को 16 सपने आते हैं, जिससे प्रकट हो जाता है कि भगवान का जन्म होने वाला है।

यह बात इटारसी में चल रहे जैन समाज के पंचकल्याणक महोत्सव के द्वितीय दिन आज भगवान के गर्भकल्याणक कार्यक्रम के अंतर्गत मुनिश्री निर्णयसागर ने अपने प्रवचनों में कही। आज भगवान की माता मरु देवी की गोदभराई का रस्म सौधर्म इंद्र एवं कुबेर इंद्र के साथ-साथ स्वर्ण सौभाग्यवती महिला श्रीमती धरती रजत जैन बाबूजी परिवार (ऐसी महिला इसके माता-पिता भी जीवित हैं और सास ससुर भी जीवित हैं और जिसकी पहली संतान पुत्र है) के द्वारा संपन्न हुआ। रात्रि 1 बजे तक चले इस कार्यक्रम में समाज के सभी लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। प्रात: 7 बजे से नियमित पूजा अर्चना के पश्चात गुरु जी ने गर्भ संस्कार का महत्व बताते हुए बताया कि मां के पेट में जब बच्चा आ जाता है तो गर्भ में पल रहे बच्चे पर आपके नियमित आचरण संस्कारों का खुशनुमा मानस स्थिति आदि का प्रभाव जन्म लेने वाले बच्चों के भविष्य पर पड़ता है।

प्रवचनों के दौरान गुरु जी ने भ्रूण हत्या को गलत बताते हुए उसका विरोध किया। उन्होंने कहा की प्राणी मात्र की रक्षा करना हमारा धर्म है। ऐसे में हम गर्भ में आई बच्ची को कैसे मार सकते हैं। प्रवचनों के पश्चात एक घट यात्रा श्री वर्धमान स्कूल परिसर में नवनिर्मित मान स्तंभ का शुद्धिकरण करते हुए श्री कावेरी स्टेट दिगंबर जैन मंदिर पहुंची, जहां पर नवनिर्मित विशाल बेदी का शुद्धिकरण कार्यक्रम हुआ। रात्रि में महा आरती करने का सौभाग्य भरत चक्रवर्ती के रूप में बने पात्र श्रीमती दिव्या दीपक जैन, अरविंद कुमार जैन परिवार को प्राप्त हुआ।

रात्रि में राजा नाभि राय का दरबार लगा जिसमें सभी प्रमुख पात्रों ने शिरकत की और एक नाटिका के माध्यम से समाज को एक बहुत अच्छा संदेश दिया जिसमें अष्ट देवियों के द्वारा माता की सेवा एवं श्रृंगार का चित्रण किया। मां के प्रति कैसा व्यवहार होना चाहिए एवं भगवान की माता के 16 सपनों के फलों का महत्व बताया। कार्यक्रम में इटारसी शहर के जैन समाज के अतिरिक्त दूर-दूर से लोगों ने आकर शिरकत की। पंचकल्याणक समिति के प्रवक्ता एवं महामंत्री दीपक जैन ने बताया कि कल प्रात: 8 बजे भगवान का जन्म कल्याण का चित्रण किया जाएगा।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

error: Content is protected !!