22 चार पहिया वाहनों से 162 बुजुर्गों ने आंवलीघाट एवं सलकनपुर में किए दर्शन

22 चार पहिया वाहनों से 162 बुजुर्गों ने आंवलीघाट एवं सलकनपुर में किए दर्शन

इटारसी। सिंधी समाज (Sindhi Samaj) में पहली बार ऐसा देखने का अवसर मिला है, जब पूज्य पंचायत सिंधी समाज के तत्वावधान में सिंधु सेवा समिति (Sindhu Seva Samiti) द्वारा समाज के 162 महिला-पुरुष बुजुर्गों को नि:शुल्क धार्मिक यात्रा कराई गई। इसके लिए समिति द्वारा पहले से ही यात्रा पर जाने वाले सामाजिक बुजुर्गों के रजिस्ट्रेशन कराए गए थे।

रविवार सुबह 11 बजे भगवान श्री झूलेलाल मंदिर (Shri Jhulelal Mandir) से पूजन अर्चन के पश्चात 22 चार पहिया वाहनों में सवार होकर यह बुजुर्ग सबसे पहले पहले आंवली (Awli Ghat) घाट पहुंचे। यहां बुजुर्गों ने मां नर्मदा के साथ ही धुनी वाले दादा के दरबार में माथा टेककर दर्शन लाभ लिया। इसके बाद काफी देर तक यहां बने परिसर में भजन कीर्तन का कार्यक्रम चलता रहा। इस दौरान बुजुर्ग महिला एवं पुरुषों ने आकर्षक नृत्य भी किए जिसे सामाजिक बंधुओं ने अपने मोबाइल कैमरे में कैद किया और समाज के सोशल मीडिया ग्रुप पर वायरल कर दिया जिसके बाद पूरे समाज में यात्रा की जमकर तारीफ की जा रही है। तत्पश्चात समिति की ओर से सभी को भोजन कराया गया।

यहां से यात्रा सलकनपुर (Salkanpur) पहुंची। यहां श्रद्धालुओं ने मंदिर समिति द्वारा बनाई गई व्यवस्था के हिसाब से वीआईपी दर्शनों का लाभ लिया। इस अवसर पर मंदिर समिति के अध्यक्ष महेश उपाध्याय (Mahesh Upadhyay) ने पूज्य पंचायत सिंधी समाज के अध्यक्ष धर्मदास मिहानी (Dharmdas Mihani), सिंधु सेवा समिति के अध्यक्ष मोहन मोरवानी ( Mohan Morwani) का स्वागत किया गया। वहीं समाज की ओर से भी श्री उपाध्याय का शाल-श्रीफल से स्वागत किया गया।

यात्रा पर गए बुजुर्गों ने अनुरोध करते हुए कहा कि समिति सामाजिक बंधुओं को साल में कम से कम दो यात्रा अवश्य कराएं। इस अवसर पर यात्रा पर गए बुजुर्गों ने पूज्य पंचायत सिंधी समाज एवं सिंधु सेवा समिति के सभी सदस्यों के प्रति आभार व्यक्त कर आशीर्वाद देते हुए कहा, सभी व्यवस्थाएं एकदम व्यवस्थित थी। पूरा कार्यक्रम मिनट-टू-मिनट संपन्न हुआ। जिसके चलते यात्रा ऐतिहासिक एवं यादगार बन गई।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

error: Content is protected !!