कलेक्टर ने इटारसी और केसला में धान उपार्जन केन्द्रों का किया निरीक्षण

कलेक्टर ने इटारसी और केसला में धान उपार्जन केन्द्रों का किया निरीक्षण

  • – किसानों को कोई असुविधा न हो, समय पर भुगतान के निर्देश

इटारसी। कलेक्टर सुश्री सोनिया मीणा (Collector Ms. Sonia Meena) ने आज इटारसी (Itarsi) और केसला (Kesla) के धान उपार्जन केन्द्रों का निरीक्षण कर संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये कि किसानो को किसी प्रकार की असुविधा न हो तथा समय पर किसानों को उनकी उपज का भुगतान किया जाए।

इस दौरान मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत एसएस रावत (SS Rawat), एसडीएम इटारसी टी प्रतीक राव (T Pratik Rao), उप संचालक कृषि जेआर हेडाऊ(JR Hedau), उपायुक्त सहकारिता शिवम मिश्रा (Shivam Mishra), जिला आपूर्ति नियंत्रक ज्योति जैन (Jyoti Jain), डीएमओ देवेंद्र यादव (Devendra Yadav) सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे। जिला आपूर्ति नियंत्रक श्रीमती ज्योति जैन ने बताया कि जिले में निर्धारित 65 उपार्जन केंद्रों में 16471 स्लॉट बुकिंग के विरुद्ध अभी तक 11523 किसानों से 127512 मेट्रिक टन धान की खरीदी की है। कलेक्टर सुश्री सोनिया मीना सबसे पहले ग्राम रैसलपुर (Village Raisalpur) स्थित गोदाम स्तरीय खरीदी केंद्र पहुंची। उन्होंने यहां समिति प्रबंधक और उपार्जन संबंधी अधिकारियों से किसानों की स्लॉट बुकिंग के विरुद्ध की गई खरीदी की जानकारी ली।

इस दौरान उन्होंने वेयरहाउस (Warehouse) का बारीकी से अवलोकन कर खरीदी उपज की स्टेगिंग भी देखी। इसके बाद उन्होंने ग्राम केसला में केसला समिति के वेयरहाउस केंद्र का निरीक्षण किया। उन्होंने खरीदी केंद्र पर ट्रैक्टर ट्राली की लंबी कतार देखकर धीमी खरीदी के संबंध में समिति प्रबंधक और अधिकारियों से जानकारी ली। उन्होंने उपार्जन संबंधी अधिकारियों, समिति प्रबंधक एवं वेयर हाउस संचालकों को निर्देशित किया कि खरीदी केंद्र पर आवश्यक संसाधनों और श्रमिकों की संख्या बढ़ाकर तेजी से खरीदी संपन्न कराएं। खरीदी गई उपज की व्यवस्थित स्टेगिंग (Staging) करें। सुचारू रूप से परिवहन कराएं।

किसानों को अपनी उपज बेचने में कोई परेशानी ना हो। निर्धारित स्लॉट के अनुसार तय समय सीमा में खरीदी की जाएं। केंद्रो पर वाहनों की कतारे न लगें। उन्होंने किसानों का समय पर भुगतान किए जाने के भी निर्देश दिए। इस दौरान कलेक्टर सुश्री मीना ने केंद्र पर मौजूद किसानों से चर्चा कर धान खरीदी की जानकारी। उन्होंने जानकारी ली कि किसानों को उपज बेचने में कोई परेशानी तो नहीं आई। उन्होंने भुगतान के संबंध भी किसानों से जानकारी ली।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

error: Content is protected !!