बाजार खुलने का समय बढ़ाने से दुकानों पर कम हुई भीड़

बाजार खुलने का समय बढ़ाने से दुकानों पर कम हुई भीड़

इटारसी। अनलॉक(nlock) की प्रक्रिया में बाजार खुलने का समय बढ़ाने के बाद व्यापारियों को पहले से राहत मिलने लगी है। 2 घंटे का समय बढने से दुकानों पर भीड़ कम हुई है तो वहीं ग्राहकों को भी खरीदारी करने का पर्याप्त समय मिल गया है। समय बढने से मजदूर वर्ग और सरकारी कर्मचारियों(Government employees) की समस्याएं दूर हुई है। जिसके बाद वे भी बाजार से खरीददारी कर पा रहे हैं।
बाजार का समय बढने के बाद ग्राहकों में भी उत्साह देखने को मिल रहा है। ग्राहकों को अब जल्दबाजी से राहत मिल गई है। ग्राहकों की मानें तो उन्हें पहले से 5 बजे तक बाजार का काम निपटाने की चिंता लगी रहती थीए लेकिन बाजार का समय बढने खरीदारी करने का पर्याप्त समय मिल गया है।
व्यापारियों का कहना है कि शाम 5 बजे तक ही ज्यादा ग्राहक होते हैं। हालांकिए इस दौरान बाजारों में कुछ एक व्यापारियों द्वारा वायरस संबंधित प्रशासन के नियमों की अनदेखी की जा रही है। बाजार आने वाले ज्यादातर ग्राहक भी फिजिकल डिस्टेंसिंग(Physical distancing) का पालन नहीं कर रहे हैं। ऐसे में व्यापारियों का कहना है कि नियमों का पालन कराने का जिम्मा प्रशासन का है। लेकिन प्रशासन व्यापारियों पर जुर्माना लगाकर अपनी जिम्मेदारियों से बच रहा है। गौरतलब है कि पहले बाजार खुलने का समय सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक था। जिसके कारण दुकानदारों को नुकसान और दुकानों पर ग्राहकों के भीड़ की समस्याएं बढ़ रही थी। जिसके बाद इन असुविधाओं को देखते हुए प्रशासन ने बाजार खुलने का 2 घंटे बढ़ाकर शाम 7 बजे कर कर दिया है।

इनका कहना है….
दो घंटे अधिक बाजार खुलने से सरकारी कर्मचारियों की ग्राहकी बढ़़ी है। दुकानों पर भीड़ कम हो रही है। ग्राहकों को नियमों का पालन कराने का प्रशासन का काम है। लेकिन प्रशासन ही अनदेखी करने में लगा हुआ है।
दीपक अग्रवाल, व्यापार महासंघ

प्रशासन की गाइडलाइन का कोई पालन नहीं कर रहा है। ग्राहकों को नियम बताने पर वे दूसरी दुकान का रुख कर लेते हैं। प्रशासन ही कोरोना संबंधित गाइडलाइन के प्रति जवाबदेह नहीं है।
कन्हैया गुरयानी, रेडिमेड कपड़ा व्यापारी संघ

इस समय पूरा व्यापार ठंडा पड़ा है। तीज.त्यौहारों पर ही थोड़ी बहुत ग्राहकी रहती है। बिना मास्क के ग्राहक को सामान नहीं देते हैं। नपा किसी का चालान करे तो उसे मास्क जरूर दें।
गोविंद बांगड़, अध्यक्ष किराना व्यापार महासंघ

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: