पानी बचाने के लिए आँख में पानी आना जरुरी है – राजकुमार शर्मा

पानी बचाने के लिए आँख में पानी आना जरुरी है – राजकुमार शर्मा

छः साल मे पांच हजार लोगो ने रचनात्मक कार्यो मे हिस्सा लिया

बनखेड़ी। बनखेड़ी शासकीय महाविद्यालय में विश्व जल दिवस (World Water Day) पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) द्वारा आयोजित जल संगोष्ठी में कृषि विज्ञान केंद्र और भाऊसाहब भुस्कुटे स्मृति लोक न्यास ने सहभागिता निभाई। संगोष्ठी कार्यक्रम के वक्ता राजकुमार शर्मा ने कहा कि समाज में सकारात्मक कार्य करने वालो की बहुत जरुरत है। देश का भविष्य तभी उज्जवल है जब देश का युवा अनुशासित , संस्कारी हो। उन्होंने कहा कि पिछले छः वर्षो में बनखेड़ी में जलसंरक्षण सहित अन्य रचनात्मक कार्यों के माध्यम से लगभग 5 हजार लोगो ने श्रमदान में हिस्सा लिया है। महाविद्यालय के प्रोफेसर डॉ. आशीष बिल्लोरे ने कहा जल के बिना जीवन संभव नहीं है। और वर्तमान में बढ़ रहे जल संकट पर सतर्क और जागरूक होना जरुरी है। कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक डॉ. प्रवीण सोलंकी ने कहा कि वर्षा का जल हम 15 मिनिट की बारिश के बाद सहेजकर रख सकते है।  किसानो को खेती में ड्रिप सिस्टम अपनाना चाहिए। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जिला कार्यवाह मनीष मोकाती ने जल का महत्व बताते हुए बच्चो को पानी बचाने की शपथ दिलाई। कार्यक्रम की शुरुआत सरस्वती पूजन से की गई और मंच के अतिथियों का स्वागत पौधा भेट करके किया गया। इस अवसर पर महाविद्यालय की प्राचार्य प्रीति कौरव, डॉ. कृष्णगोपाल तिवारी, राहुल माझी, अनिल सराठे, अशोक विश्वकर्मा सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे।

02

CATEGORIES
Share This
error: Content is protected !!