गजल : अब सिवा याद के बचा क्या है ?…

गजल : अब सिवा याद के बचा क्या है ?…

अब सिवा याद के बचा क्या है ?
राख़ में मुझको ढूँढ़ता क्या है ?

बात करने नहीं रहा कोई अपना ,
इससे बढ़कर कोई सज़ा क्या है ?

भीगी आँखों ने कह दिया सब कुछ ,
और कहने को अब रहा क्या है ?

शौक कहने का हो जिसे गजल ,
बढ़ के इससे कोई नशा क्या है ?

आप आते नहीं बुलाने से ,
ऐसी मुझसे हुई ख़ता क्या है ?

आ भी जाओ चिराग बुझने को हैं ,
दिल तुम्हारा आखिर चाहता क्या है ?

सूने हो जाते नीड़ ‘पर’ आते ,
ज़िंदगी का ये फ़लसफ़ा क्या है ?

mahesh soni

महेश कुमार सोनी
माखन नगर

CATEGORIES
Share This
error: Content is protected !!