नेतृत्व विकास के लिए समेरिटंस स्कूल में छात्र संसद का गठन

नेतृत्व विकास के लिए समेरिटंस स्कूल में छात्र संसद का गठन

नर्मदापुरम। बच्चों की प्रतिभा के उन्नयन और उनमें नेतृत्व क्षमता के विकास के लिए सदैव भी नवीन प्रयोग किए जाते हैं। विद्यार्थियों की प्रतिभा उन्नयन और उनमें नेतृत्व क्षमता के विकास के लिए शुक्रवार को छात्र संसद का गठन किया। इसके माध्यम से विद्यार्थियों को संसदीय ज्ञान से परिचित कराने के साथ ही उनकी राजनीतिक समझ को विकसित करना है।

छात्र संसद में प्रधानमंत्री शिवांशु गौर (Shivanshu Gaur), स्पीकर लीजा यदुवंशी (Lisa Yaduvanshi) को बनाया। इस संसद में 22 अन्य विद्यार्थियों को शामिल कर विभिन्न जिम्मेदारियां सौंपी गई हैं। इन्हें समय समय पर उनके विषय से संबंधित प्रोजक्ट वर्क (Project Work) दिया जाएगा और अंत में इसका मूल्यांकन होगा। छात्र संसद के शपथ ग्रहण समारोह में विद्यालय के पूर्व छात्र थलसेना के मेजर विश्रुत गोखले (Major Vishrut Gokhale), संस्था के डायरेक्टर डॉ. आशुतोष शर्मा (Director Dr. Ashutosh Sharma), प्राचार्य श्रीमती प्रेरणा रावत (Principal Mrs. Prerna Rawat) सहित अन्य शिक्षक उपस्थित रहे।

डायरेक्टर डॉ शर्मा ने कहा कि बच्चों की प्रतिभा और उनकी क्षमताओं के विकास के लिए विद्यालय में वर्षभर इस तरह की रचनात्मक गतिविधियां होती ही रहती हैं। यह गतिविधि ह्युमेनिटी विभाग द्वारा की गई है। विभाग का यह प्रयास प्रशंसनीय है। ज्ञात रहे कि इस गतिविधि के आयोजन में मुख्य भूमिका ह्युमेनिटी विभाग प्रमुख संजय लायल की है।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

error: Content is protected !!