Tag: Vipin Pawar

समीक्षा: कहानी संग्रह: पीली रोशनी का समंदर- विपिन पवार

देवेन्द्र सोनी:  जब भी साहित्य की या लेखन की बात होती है तो सर्वमान्य रूप से जेहन में जो दो प्रमुख विधाएं उभरती हैं वह हैं - गद्य और पद्य। (और ज्यादा…) Read More

समीक्षा: खिड़कियों से झांकते अपने-अपने एकांत

विपिन पवार/ विख्‍यात ब्रिटिश लेखक एवं राजनेता ऑगस्टिन बिरेल ने कहा है कि ‘’बावर्चियों, योद्धाओं और लेखकों का आंकलन इस बात से किया जाना चाहिए (और ज्यादा…) Read More

विपिन पवार होंगे “चिंतामणी सम्मान” से सम्मानित

इटारसी। अमरावती की "अखिल भारतीय हिंदी साहित्य सभा" द्वारा वर्ष 2020 - 21 के लिए विपिन पवार को उनके निबंध संग्रह 'अक्षरों की मेरी दुनिया' के लिए उन्हें "चिंतामणी सम्मान" से सम्मानित किए ... Read More

समीक्षा: स्‍वप्‍नों का विश्‍लेषण करती एक खास पुस्‍तक: सपनों की दुनिया

विपिन पवार/ हमें स्‍वप्‍न क्‍यों आते हैं ? कब आते हैं ? क्‍या सभी को स्‍वप्‍न आते हैं ? क्‍या सपने सच होते हैं? (और ज्यादा…) Read More

कविता: यह सदी…

सूरज ने रोशनदान से प्रवेश किया, किसी ने बर्तन भर दूध लिया, (और ज्यादा…) Read More

विशेष : हाथरस (Hathras) की हैं ये ख़ासियत- by Vipin Pawar

हाथरस (Hathras) की हैं ये ख़ासियत - विपिन पवार हाथरस की ख़ासियत - पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश में स्थित हाथरस शहर भले ही आज अवांछनीय कारण से चर्चा में आ गया हो लेकिन हाथरस ... Read More

बहुरंग: भाषाई गुलामी का एक प्रयास

विपिन पवार/इतिहास साक्षी है कि जब कभी कोई देश गुलाम हुआ है। शासक देश की संस्कृति, सभ्यता और भाषा का गहरा प्रभाव शासित देश पर पड़ा है। (और ज्यादा…) Read More

error: Content is protected !!