सेठानी घाट पर लगभग 1000 बच्चों ने किया सामूहिक सूर्य नमस्कार

सेठानी घाट पर लगभग 1000 बच्चों ने किया सामूहिक सूर्य नमस्कार

  • धूपगढ़ ,मढ़ई ,बांद्राभान इत्यादि पर्यटन स्थलों पर भी किया गया सामूहिक सूर्य नमस्कार
  • जिला मुख्यालय सहित विभिन्न शैक्षणिक एवं अन्य संस्थाओं में हुआ सामूहिक सूर्य नमस्कार का आयोजन

नर्मदापुरम। स्वामी विवेकानंद जी की जयंती 12 जनवरी को युवा दिवस के अवसर पर जिला मुख्यालय सहित विभिन्न शैक्षणिक एवं अन्य संस्थानों पर सामूहिक सूर्य नमस्कार एवं प्राणायाम कार्यक्रम का हुआ आयोजन। प्रदेश की सर्वोच्च चोटी धूपगढ़ पर भी सामूहिक सूर्य नमस्कार किया गया। जिले के पर्यटन स्थल , मढ़ई, बांद्राभान आदि स्थानों पर भी सामूहिक सूर्य नमस्कार आयोजित हुआ।

मुख्य कार्यक्रम का आयोजन जिले के पावन सेठानी घाट में किया गया। जिसमें अधिकारियों और स्कूली छात्र छात्राओं ने सामूहिक सूर्य नमस्कार किया। यहां 30 स्कूलों के लगभग 1000 बच्चों ने सामूहिक सूर्य नमस्कार किया। योगाचार नरेंद्र ग़ौर, नंदकिशोर रघुवंशी, शंकरदास, जयंत यादव के मार्गदर्शन में किया गया। कार्यक्रम में स्वामी विवेकानंद के ऐतिहासिक उद्बोधन का प्रसारण आकाशवाणी से हुआ। इसके बाद मध्यप्रदेश गान का गायन किया गया। इसी क्रम में विद्यार्थियों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव के भाषण को लाइव प्रसारण के जरिए सुना। इसके बाद आकाशवाणी से मिल रहे संकेतों अधिकारियों एवं स्कूली बच्चों ने सामूहिक रूप से सूर्य नमस्कार के तीन चक्र और अनुलोम विलोम,  भस्त्रिका व भ्रामरी प्राणायाम किए।
कार्यक्रम में कलेक्टर नर्मदापुरम सुश्री सोनिया मीना, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत एसएस रावत, अध्यक्ष मध्यप्रदेश तैराकी संघ पीयूष शर्मा, महेंद्र यादव तथा शिक्षा, नगरपालिका, आयुष एवं विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।
कलेक्टर सुश्री सोनिया मीना ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि सूर्य नमस्कार और योग शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य के लिए बहुत उपयोगी है। युवा अपने दैनिक दिनचर्या में सूर्य नमस्कार को शामिल करें। उन्होंने स्वामी विवेकानंद के चमत्कारिक व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला और युवाओं को अपने उज्ज्वल भविष्य निर्माण के लिए प्रेरित किया। पीयूष शर्मा ने भी अपने संबोधन में सूर्य नमस्कार के महत्व से विद्यार्थियों को अवगत कराया। कार्यक्रम का संचालन शिक्षा विभाग द्वारा किया गया।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

error: Content is protected !!