खुदकुशी का ऐसा पहला मामला, हैंडराइटिंग का दस्तावेजों से हुआ मिलान

खुदकुशी का ऐसा पहला मामला, हैंडराइटिंग का दस्तावेजों से हुआ मिलान

नपा के सब इंजीनियर के सुसाइड का मामला

नर्मदापुरम। यहां की नगर पालिका (Municipality, Narmadapuram) के एक सब इंजीनियर (Sub Engineer, Nagar palika ) ने सुसाइड (Suicide) के लिए इंजीनियरिंग दिमाग लगाया और मुंह में नाइट्रोजन गैस (Nitrogen Gas) भरकर आत्महत्या कर ली। मृतक चेतन भूमरकर बैतूल (Chetan Bhumarkar, Betul) का रहने वाला था और पिछले कुछ समय से बीमारी की वजह से परेशान था। आज शव का पोस्टमार्टम (Post-mortem) करके परिजनों को दे दिया है।
सब इंजीनियर ने खुदकुशी के लिए भी अलग तरीका अपनाया। नाइट्रोजन गैस के सिलेंडर का पाइप (Nitrogen gas cylinder pipe) मुंह में लिया और फिर चेहरे को पॉलीथिन (Polythene) से बांध लिया।
चेतन नगर पालिका नर्मदापुरम (Municipality Narmadapuram) की जल प्रदाय शाखा में बतौर सब इंजीनियर (Sub Engineer) पदस्थ थे। नर्मदापुरम में बंजारा हिल्स (Banjara Hills, Narmada Parisar) पर नर्मदा परिसर के फ्लैट नंबर 2 (Flat No. 2) में किराए से रहते थे। चेतन कुछ समय से बीमार चल रहे थे, जिसके चलते यह कदम उठाना बताया जा रहा है। इसके अलावा माता-पिता की मौत के बाद से भी वे परेशान चल रहे थे। अब उसकी एक बहन है जो इंदौर (Indore) में पढ़ती है।

घटना के बाद दो दिन तक दरवाजा नहीं खुलने पर खाना बनाने वाली महिला ने रूम पार्टनर (Room Partner) और पड़ोसी को जानकारी दी। जिसके बाद पुलिस घर का दरवाजा तोड़कर घर में घुसी, और मामले का खुलासा हुआ। अंदर एक कमरे में गद्दे पर उपयंत्री चेतन का शव पड़ा था। खुदकुशी का तरीका देखकर पुलिस (Police) ने एफएसएल (FSL Team) टीम को बुलाकर जाच कराई।

सुसाइड नोट में बीमारी को बताया वजह

मृतक के पास से मिले एक पेज के सुसाइड नोट (Suicide Note) में उन्होंने लिखा, मैं चेतन भूमरकर नगर पालिका में उपयंत्री हूं। मैं बीमारी से परेशान हूं। जिस कारण मैं अपना कार्य पूरी तरह से कर नहीं पा रहा। मेरी मृत्यु के बाद मेरे परिवार या किसी को भी परेशान मत करना। मैं स्वेच्छा से आत्महत्या कर रहा हूं। मेरी मृत्यु की सूचना मेरे परिजनों को दे देना। उन्होंने परिजनों के नाम के साथ ही सभी के मोबाइल नंबर लिखे हैं ।

गैस की वजह से दम घुटने से मृत्यु

थाना कोतवाली टीआई संतोष सिंह चौहान (TI Santosh Singh Narmadapuram) ने बताया मृतक चेतन मैकेनिकल इंजीनियर (Mechanical Engineer) था। आत्महत्या में उसने इंजीनियरिंग का उपयोग किया। मुंह पॉलीथिन से बंधा था। जिसमें नाइट्रोजन गैस पाइप से भरी होगी। दम घुटने से उसकी मृत्यु हुई है। प्रथम दृष्टया आत्महत्या प्रतीत हो रही है। सुसाइड नोट भी मिला है। मृतक के सुसाइड नोट की हैंडराइटिंग (Handwriting) मिलान नगर पालिका में दस्तावेजों से किया तो यह हैंड राइटिंग उनकी ही पायी गयी है।

सुसाइड से पूर्व रूम पार्टनर को गांव भेजा

सब इंजीनियर चेतन के साथ फ्लैट में उनका रूम पार्टनर लखन कुशवाह भी रहता था। लखन बीएससी फस्र्ट ईयर का छात्र है। पिछले महीने चेतन के साथ रहने आया था। शनिवार को चेतन ने उसे कहा कि मेरे रिलेटिव आने वाले हैं, इसलिए तुम अपने गांव चले जाओ तो वह अपने गांव सेमरीहरचंद (Semriharchand) गया। लखन ने बताया कि रविवार को सुबह और दोपहर में खाना बनाने वाली आंटी का कॉल आया कि दरवाजा अंदर से बंद है। आज फिर उन्होंने मुझे कॉल किया, मैं आया। पड़ोसियों को जानकारी दी। पुलिस को बुलाकर दरवाजा खुलवाया। अंदर का दृश्य देख हैरान हो गया।

CATEGORIES
TAGS
Share This

AUTHORRohit

I am a Journalist who is working in Narmadanchal.com.

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )
error: Content is protected !!