किसानों को एक ही जगह मिलेगी रोजमर्रा और कृषि संबंधी सामग्री

किसानों को एक ही जगह मिलेगी रोजमर्रा और कृषि संबंधी सामग्री

कृषि मंडी में बनेंगे तीन सुपर मार्केट, सिनेमा हॉल

इटारसी। कृषि उपज मंडी समिति (Agricultural Produce Market Committee)अब शॉपिंग मॉल (Shoping Mall) का संचालन करेंगी। कृषि मंत्रालय की योजना अनुसार मंडियों की आय बढ़ाने और उनको आर्थिक रूप से सुदृढ़ बनाने की कवायद में यह कदम उठाया जाएगा। मंडी प्रबंधन ने इसकी तैयारियां भी प्रारंभ कर दी हैं। इटारसी मंडी में तीन सेक्टर में अलग-अलग शॉपिंग मॉल बनाये जाएंगे। इन सुपर मार्केट्स का संचालन पीपीपी मोड (PPP Mode) पर करने की योजना है।

कृषि मंत्रालय की योजना (Ministry of Agriculture Scheme) के अनुसार प्रदेश की उन सभी मंडी समितियों को अपने यहां सुपर मार्केट संचालन करना है जो हाईवे पर स्थित हैं। इसी के तहत इटारसी कृषि उपज मंडी (Itarsi Agricultural Produce Market) में शॉपिंग मार्केट की तैयारियां प्रारंभ हो गयी हैं। मंडियों की आय बढ़ाने की कवायद के अंतर्गत अब जिले से बाहर के किसानों की उपज भी यहां खरीदी जाएगी और रजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता भी समाप्त कर दी है।

यहां तीन सुपर मार्केट
कृषि उपज मंडी इटारसी (Krasi Upaj mandi market) के परिसर में तीन सुपर मार्केट संचालित किये जाएंगे। इसके लिए स्थान भी चिह्नित कर लिये गये हैं। ये तीनों सुपर मार्केट तीन सेक्टरों में संचालित होंगे। सेक्टर ए में आजाद चंद्रशेखर मार्केट (Azad Chandrasekhar Market) रहेगा जो मंडी गेट पर बने दुर्गा मंदिर के पीछे स्थित रिक्त भूमि पर रहेगा। सेक्टर बी का सुपर मार्केट शहीद भगत सिंह मार्केट (Super Market Shaheed Bhagat Singh Market) स्व. माधवराव सिंधिया (Madhavrao Scindia) के प्रतिमा स्थल के पीछे स्थित रिक्त भूमि पर संचालित होगा। इसी तरह से सेक्टर सी-सुभाषचंद्र बोस मार्केट मंडी के पुराने कार्यालय के सामने नये गेट के पास स्थितरिक्त भूमि पर रहेगा।

किसानों की सुविधा के लिए
प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल (Agriculture Minister Kamal Patel) के निर्देश पर मंडी प्रांगण में किसानों को अधिक से अधिक सुविधा उपलब्ध कराने की योजना पर काम किया जा रहा है। पिछले दिनों हुई भारसाधक समिति की बैठक में निर्णय लेकर प्रस्ताव का अनुमोदन किया है तथा इसे स्वीकृति के लिए वरिष्ठ कार्यालय को भेजा है। समिति ने इस प्रस्ताव पर सर्वसम्मति से निर्णय लेकर स्वीकृति की अनुशंसा कर दी है। इसमें अनुविभागीय अधिकारी राजस्व एवं मंडी में भारसाधक अधिकारी मदन सिंह रघुवंशी और सचिव कृषि उपज मंडी उमेश कुमार बसेडिय़ा शर्मा मौजूद रहे।

ऐसा रहेगा सुपर मार्केट
कृषि उपज मंडी परिसर में ही सुपर मार्केट होने से किसानों को काफी सुविधा हो जाएगी। उनको यहां खाद-बीज, विद्युत सामग्री, कृषि के अन्य यंत्र, मोटर पंप तो उपलब्ध होंगे ही यहां फूड जोन, कपड़ों के अलावा मनोरंजन के लिए सिनेमा हॉल की भी सुविधा प्रदान की जाएगी। इटारसी कृषि मंडी के अंतर्गत कृषि उपज उपमंडी रैसलपुर में एक पेट्रोल पंप संचालित करने की योजना भी इसी के अंतर्गत है। किसानों को मंडी परिसर में प्रवेश के लिए तीन पास मिलेंगे जबकि सुपर मार्केट में आमजन को प्रवेश के लिए बाहरी तरफ एक गेट दिया जाएगा।

और यह योजना भी है
नेशनल हाईवे 69 पर स्थित कृषि उपज मंडी की बाउंड्री पर अभी 75 दुकानें संचालित हैं, जिनसे कृषि उपज मंडी को आमदनी होती है। अब हाईवे के दूसरी तरफ भी मंडी की जो रिक्त भूमि है, उसका उपयोग करने की भी योजना है। मंडी सचिव के अनुसार रोड की दूसरी तरफ वेयर हाउस के पास मंडी की जो भूमि है, वहां 20 दुकानों का निर्माण करने की भी योजना है। चूंकि यह हाईवे किनारे मार्केट रहेगा और शहर से भी अधिक दूरी नहीं है, अत: यहां कारोबार की दृष्टि से मुफीद माहौल मिलेगा। इन दुकानों से भी मंडी को आय प्राप्त होगी।

इनका कहना है…
पुरानी स्थितियो में बदलाव हो गया है। मॉडल एक्ट से आवक घटने की आशंका को देखते हुए विद्यमान संरचनाएं हैं, विभिन्न मंडियों में उनको आय का स्रोत बनाने के लिए कृषि मंत्री ने नोटसीट भेजी है, कि हाईवे की मंडियों में सुपर मार्केट और जहां अधिक जगह है, वहां पेट्रोल पंप बनाये जाएंगे। इन सुपर मार्केट में फूड जोन, सिनेमा हॉल, कपड़े आदि रोजमर्रा की सभी चीजें एक ही स्थान पर किसानों को उपलब्ध हो सकें। बाहर से यह सेक्टर आमजन के लिए भी खुले रहेंगे जिससे क्षेत्र का विकास भी होगा।
उमेश बसेडिय़ा शर्मा (Umesh Basedia Sharma, Secretary Agriculture Market), सचिव कृषि मंडी

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: