आदिवासी समाज के सामूहिक विवाह में 8 जोड़ों ने थामा एकदूसरे का हाथ

आदिवासी समाज के सामूहिक विवाह में 8 जोड़ों ने थामा एकदूसरे का हाथ

इटारसी। बिरसा मुंडा सामाजिक कल्याण समिति जमानी (Birsa Munda Social Welfare Committee Zamani) के तत्वावधान में आज तिलक सिंदूर (Tilak Sindoor) में आठ जोड़ों का विवाह संपन्न हुआ। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना (Chief Minister Kanya Vivah Yojana) के तहत इस वर्ष अब तक तारीख निर्धारित नहीं होने से समिति ने इस विवाह का आयोजन किया। आज आदिवासी रीति रिवाज से भूमकाओं सेे पूजा कराकर वर-वधुओं ने एक दूसरे का हाथ थामा है।

इस दौरान आदिवासी संस्कृति के अनुसार खम की पूजा, सुपारी सिक्के रखकर महुआ के फूल से पूजा की गई। समिति द्वारा सभी जोड़े को रकम में चांदी का मंगल सूत्र एवं बिछिया की जोड़ एवं पांच-पांच बर्तन भेंट किये। इस अवसर पर बैंड बाजे, नाच गाने के साथ बारात लगी। 8 जोड़े ऐसे थे जो कि बहुत गरीब थे। सामाजिक कार्यकर्ताओं ने रूपरेखा तैयार की थी जिसके तहत आज सफलता से विवाह संपन्न हो गया है। मध्य प्रदेश भूमका संघ प्रकोष्ठ अध्यक्ष रेवाराम आहके (Revaram Ahke) की टीम ने रीति रिवाज से विवाह संपन्न कराया।

मुख्य अतिथि मंजू धुर्वे महिला, प्रकोष्ठ की प्रदेश अध्यक्ष, आदिवासी विकास परिषद जिला अध्यक्ष अरूण प्रधान, अजाक्स संघ जिला अध्यक्ष चंद्र शिवराम उईके, अशोक कुशराम उपाध्यक्ष आदिवासी सेवा समिति तिलक सिंदूर, संरक्षक सुरेंद्र कुमार धुर्वे, सरपंच सुखराम कुमरे, जनपद सदस्य कला कुमरे, विजय कवरे, दुर्गा कुशराम, सुनील नागले, आकाश कुशराम, डोरीलाल चीचाम, उमेश मरकाम, मंगल कुमरे, लक्ष्मी ठाकुर, मनीषा धुर्वे, अमरसिंह उईके, अंकित कुमरे, अवधराम कुमरे, जगदीश काकोडिय़ा, खुमान भल्लावी, संजय सुरेश उईके, विनोद वारिवा सहित समाज के सैंकड़ों लोग मौजूद रहे।

Royal
CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

error: Content is protected !!