खबर अपडेट : आपदा काल में दाम बढ़ाये तो होगी कार्रवाई, व्यापारियों को बुलाया

खबर अपडेट : आपदा काल में दाम बढ़ाये तो होगी कार्रवाई, व्यापारियों को बुलाया

इटारसी। कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के उपायों के बीच बाजार में व्यापारियों द्वारा महंगे दामों पर सामग्री बेचने की शिकायत को प्रशासन ने गंभीरता से लिया है। शनिवार को सुबह रेस्ट हाउस में व्यापारियों को बुलाकर एसडीएम हरेन्द्र नारायण ने तहसीलदार तृप्ति पटेरिया, ऋतु भार्गव, सीएमओ सीपी राय की उपस्थिति में साफ कह दिया है कि ऐसा कतई नहीं चलेगा। अब किसी की भी शिकायत आयी तो डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के तहत कार्रवाई होना निश्चित समझिये।
लगातार शिकायतों के बाद प्रशासन ने व्यापारियों को आज बुलाकर सख्त लहजे में समझा दिया है। इस दौरान व्यापारियों ने मिल से महंगा मिलने की आड़ लेना चाही तो एसडीएम ने कहा कि आप प्रतिनिधि हो, सबको समझा देना। हम मिल वालों को भी हिदायत दे रहे हैं कि वे ऐसा न करें। सुबह करीब 11 बजे शहर के सभी व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों और किराना, गल्ला, तेल व्यापारियों को एसडीएम हरेन्द्र नारायण से सख्त लहजे में चेताया है कि आपदा की स्थिति में रेट नहीं बढ़ाये जाएंगे। अभी ऐसा कोई कारण नहीं है कि आप लोग रेट बढ़ाएं। ऐसी शिकायत अब मिली तो सख्त कदम उठाये जाएंगे। रेस्ट हाउस परिसर में सभी व्यापारियों को दूर-दूर खड़कर करके अधिकारियों ने बात की। सबने मास्क भी लगा रखे थे।
एक व्यापारी ने कहा कि हमें मिल वाले ही महंगा दे रहे हैं, तो एसडीएम ने कहा कि आपने हमें शिकायत क्यों नहीं की? हमें तो जनता और मीडिया के माध्यम से जानकारी मिली है कि आप अधिक दाम ले रहे। आप शिकायत करते तो हम मिल वालों से बात करते। आज शाम को एसडीएम मिल वालों से भी बात करेंगे और अब यदि ये व्यापारी नहीं मानते हैं तो डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी। इस अवसर पर दीपक हरिनारायण अग्रवाल, राजेन्द्र अग्रवाल कक्का, संदेश अग्रवाल, अर्जुन गांधी, मोनू सेतपलानी, गोविन्द बांगड़, कर्मवीर गांधी, मुकेश जैन, अनिल राठी, भारतभूषण गांधी लच्छू, जयप्रकाश अग्रवाल सहित किराना दुकान और तेल व्यापारी, आटा मिल संचालक सहित अनेक व्यापारी उपस्थित थे।

आप एक्ट पढ़ लें, मुझे न सिखायें
एक व्यापारी ने कहा कि हमें मिल से रेट बढ़ाकर मिल रहे। कुछ और व्यापारिक नियमों की जानकारी उसने दी तो एसडीएम हरेन्द्र नारायण ने कहा कि आपसे यहां व्यापार करना सीखने नहीं आया हूं, आप स्पष्ट रूप से समझ लें, इस आपदा की घड़ी में आपने इसे अवसर मिलना मानकर जनता से अधिम दाम वसूले तो कार्रवाई के लिए तैयार रहें। अच्छा है कि आप डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट को पढ़ लें, मुझे ज्यादा कहने की जरूरत नहीं है। दिक्कत आप लोगों को हो जाएगी, इसलिए अच्छा है कि आप ही आपस में मिलकर इस समस्या का समाधान निकालें।

पैकेट बनायें, ताकि भीड़ न हो
व्यापार महासंघ के अध्यक्ष दीपक हरिनारायण अग्रवाल ने सुझाव दिया कि किराना व्यापारी कुछ सामग्री जिनकी अधिक मांग होती है, उसके पैकेट्स बनाकर रखें, उसका निश्चित मूल्य निर्धारण कर रहें, ताकि ग्राहक आये तो पैकेट उठाकर दें और पैसा लें। इससे यह होगा कि लोग दुकान पर अधिक देर नहीं रुकेंगे और भीड़ से बचा जा सकेगा। इसमें आटा, दाल, चावल, तेल और ऐसे ही कुछ जरूरी सामग्री हो। एसडीएम ने कहा कि कुछ छोटे पैकेट्स भी कम राशि के तैयार कर लें, ताकि गरीब को भी राशन में आसानी हो, और सब संतुष्ट हो सकें।

मिल से महंगा मिलने पर
जब दुकानदारों ने मिल से महंगा माल मिलने की शिकायत की तो एसडीएम ने कहा कि हमने मिलों को चालू रखने की अनुमति इसलिए दी थी कि आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति बनी रहे, मुनाफाखोरी के लिए नहीं दी थी। दाल मिल संचालक अनिल राठी ने कहा कि हमारे पास बिल हैं, कुछ भी महंगा नहीं किया है। दीपक अग्रवाल ने कहा कि जिला स्तर पर शहर के व्यापारियों की छबि खराब हो रही है, इसमें सुधार लाना हम व्यापारियों का ही काम है। एसडीएम ने कहा कि लोग तो सेवा कर रहे हैं, आप थोड़ा मुनाफा ही कम कर लें।
इसलिए हुई है बैठक
अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि जिला प्रशासन के पास इटारसी शहर के व्यापारियों द्वारा अधिक दाम लेने की खबरें पहुंच रही थी। जिला स्तर से स्थानीय प्रशासन के पास कार्रवाई के आदेश भी आ गये थे। लेकिन, सांसद प्रतिनिधि और व्यापार महासंघ के अध्यक्ष दीपक हरिनारायण अग्रवाल ने व्यापारियों से बातचीत करके एक अवसर देने को कहा था जो प्रशासन ने मान लिया और उनकी पहल पर ही प्रशासन और व्यापारियों के बीच यह बैठक तय हो सकी। इस बैठक के बाद दरों के मामले में क्या नजीता निकलता है, यह आने वाला वक्त बतायेगा।

इनका कहना है…!

हमने अधिक रेट लेने की शिकायत मिलने के बाद व्यापारियों से बातचीत की है। आपदा की स्थिति में होल सेलर और रिटेलर रेट नहीं बढ़ा सकते हैं। रेट बढ़ाने का कोई कारण नहीं है। उनका कहना था कि मिल से रेट बढ़े हैं। हम मिल वालों से भी बात कर रहे हैं।
हरेन्द्र नारायण, एसडीएम

यह अच्छा संदेश नहीं था कि आपदा की स्थिति में सामान महंगा मिल रहा है। इसलिए व्यापारियों और प्रशासन के बीच सौहाद्र्रपूर्ण चर्चा हुई है। कई मुद्दों पर चर्चा हुई है। व्यापारियों ने भी अपनी समस्याएं बतायी हैं। उम्मीद की जा रही है कि परिणाम सार्थक होंगे।
दीपक हरिनारायण अग्रवाल, अध्यक्ष व्यापार महासंघ

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: