नज़्म: गर शिद्दत है…

नज़्म: गर शिद्दत है…

गर शिद्दत है
मोहब्बत में तो
अंजाम – ए – इश्क की
परवाह न कीजिए

भर कर
नूर मोहब्बत का
आंखों में
इकरार का आगाज़ कीजिए

मुकम्मल हो
मोहब्बत या नहीं
ये ख्याल – ए – पशोपेश न रखिए

महबूब का
तसव्वुर लिए
दिल में
इश्क के दर पर कदम रखिए.

अदिति टंडन
आगरा 

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (1)
  • comment-avatar
    विनोद कुशवाहा 2 weeks

    सुश्री अदिति की नज़्म बेहद भावपूर्ण है ।

  • Disqus ( )
    error: Content is protected !!
    %d bloggers like this:
    Narmadanchal

    FREE
    VIEW