BREAK NEWS

कहीं-कहीं भारी बारिश के आसार, गरज-चमक के साथ बौछारों वाला मौसम रहेगा

कहीं-कहीं भारी बारिश के आसार, गरज-चमक के साथ बौछारों वाला मौसम रहेगा

इटारसी। आसमान (Sky) पर सुबह से छाये बादल (Clouds) बरसे नहीं अलबत्ता छींटे पड़े हैं। नर्मदापुरम संभाग (Narmadapuram Division) में बहुत भारी बारिश के आसार हैं भी नहीं। संभाग के नर्मदापुरम (Narmadapuram), बैतूल (Betul) आदि में कहीं-कहीं मध्यम से भारी बारिश की संभावना है। इसी तरह से कहीं-कहीं गरज के साथ बिजली चमकने या गिरने की संभावना भी है। अनेक स्थानों पर वर्षा या गरज-चमक के साथ बौछारों वाला मौसम रहेगा। आगामी दो दिन और इसी तरह का मौसम बने रहने की संभावना मौसम विभाग द्वारा जतायी जा रही है। पिछले चौबीस घंटों में नर्मदापुरम संभाग के जिलों में कहीं-कहीं वर्षा दर्ज की गई है।

केवल यहां दर्ज हुई वर्षा

पिछले चौबीस घंटे के मौसम पर नजर दौड़ाई जाए तो जिले में केवल नर्मदापुरम में 9.2 मिलीमीटर, पचमढ़ी (Pachmarhi) में 7.4 मिमी और बनखेड़ी (Bankheri) में 2.2 मिमी वर्षा दर्ज हुई। सिवनी मालवा (Seoni Malwa), इटारसी (Itarsi), डोलरिया (Dolaria), माखननगर (Makhannagar), पिपरिया (Pipariya), सोहागपुर (Sohagpur) में बिलकुल पानी नहीं बरसा।

बांधों की स्थिति

मप्र में नर्मदा को प्रभावित करने वाले बांध क्षेत्रों में बारिश नगण्य होने से बांधों का जलस्तर स्थिर बना हुआ है। तवा बांध (Tawa Dam) का जलस्तर वर्तमान में 1158.30 फुट है। इसे 15 अगस्त तक 1160 फुट तक ही रखना है। यह जलस्तर पिछले कई दिनों से स्थिर है। इसी तरह से बरगी (Bargi) में 417.20 मीटर, बारना (Barna) में 346.72 मीटर (Meter) पर है। नर्मदा (Narmada) के सेठानी घाट (Sethani Ghat) पर आज सुबह का जलस्तर 935.80 है जो कल के मुकाबले 0.30 फीट कम है।

खेती हो रही प्रभावित

पिछले एक सप्ताह से भी अधिक समय से बारिश नहीं होने से खेतों में खड़ी फसल प्रभावित होने लगी है। दरअसल, लगातार बारिश के कारण धान, मक्का आदि को छोड़कर अन्य फसल को लाभ हो रहा था। लेकिन, अचानक बारिश बंद होने के बाद तेज धूप निकलने से फसल प्रभावित हो रही थी। फसल को अभी अच्छी बारिश की दरकार है।

CATEGORIES
TAGS
Share This

AUTHORRohit

I am a Journalist who is working in Narmadanchal.com.

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!